Browsing Tag

gustakhi maaf

गुस्ताखी माफ़: मेरा टेसू अब नहीं अड़ा और ना ही मांगे अब खाने को दहीबड़ा…

मेरा टेसू अब नहीं अड़ा और ना ही मांगे अब खाने को दहीबड़ा... भाजपा में भले ही संगठन अब अगले साल की चुनावी तैयारियों का दावा कर रहा हो, परंतु दूसरी ओर उम्रदराज हो रहे नेताओं का भाजपा से मोह लगभग खत्म हो गया है। कहावत है मेरा टेसू नहीं अड़ा…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: दु:खी और त्यागे कांग्रेसियों की सुनवाई शुरू…

दु:खी और त्यागे कांग्रेसियों की सुनवाई शुरू... इन दिनों इंदौर में कांग्रेस के नगर और ग्रामीण अध्यक्ष पर मेहरबान और पहलवान वाला समीकरण बिगड़ रहा है। इसके चलते लंबे समय से गरीब कांग्रेसी जो दुआएं मांग रहे थे, उसके पूरी होने की संभावना अब…
Read More...

कूदत-फिरत……..बाजे केवल पेजनिया…….

कूदत-फिरत........बाजे केवल पेजनिया....... आ धी रात चकवा अपनी खिड़की से खाली जंगल को जब निहार रहा था तो उस वक्त चकवी ने आकर पूछा... क्या देख रहे हो। इस पर चकवे ने कहा कि राजनीति की रात बड़ी लंबी होती है और काटे नहीं कटती है। इस पर पुन: चकवी…
Read More...

गुस्ताखी माफ़- ताई की मांद में पत्थर कौन फेंककर आया …

ताई की मांद में पत्थर कौन फेंककर आया ... इ स समय शहर का आम नागरिक यह नहीं समझा पा रहा है कि जो वह इस समय शहर में जो देख रहा है, वह विकास के नाम पर भूखों के खाने की व्यवस्था हो रही है या अधिकारियों के ब्रह्म भोज की। विकास की रोशनी आंखों…
Read More...

गुस्ताखी माफ़- बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच भगत की भक्ति में ही सार बचा है..

बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच भगत की भक्ति में ही सार बचा है.. राजनीति में कोई किसी नेता का लंबे समय दुश्मन नहीं रहता और लंबे समय दोस्त भी नहीं रहता। भाजपा में यह परंपराएं अब पहले से ज्यादा बदलने लगी हैं। रायता फैलने की प्रवृत्ति इतनी…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: भाजपा तीरथ एक बार…

भाजपा तीरथ एक बार... पिछले दिनों क्षेत्र क्रमांक एक के विधायक संजू बाबू ने अपनी तीरथ यात्रा प्रधानमंत्री को क्या समर्पित कर दी, सारे समीकरण ऊपर-नीचे हो गए। कांग्रेसियों का मानना है कि यह तो होना ही है। वैसे भी महापौर चुनाव के बाद अपने ही…
Read More...

गुस्ताखी माफ़:जो चिराग थे वे चिरान हो गए….झकाझक के साथ गलियारे में झाग ही झाग…

जो चिराग थे वे चिरान हो गए.... किसी जमाने में जिनके चिराग पूरे प्रदेश में जलते थे अब उनकी हालत भाजपा की नई राजनीति में कुछ इस प्रकार से हो गई है कि उन्हें मालवा निमाड़ के नए संगठन प्रभारी अजय जामवाल के सामने कुछ इस प्रकार अपना दर्द बताना…
Read More...

गुस्ताखी माफ़-जमीनी नहीं जमीन से जुड़े नेता की कदर होगी…सोचना पड़ेगा…मलाईदार में मलाई…

जमीनी नहीं जमीन से जुड़े नेता की कदर होगी... इन दिनों कांग्रेस में इतना ज्यादा घालमेल हो रहा है कि यह समझ नहीं आ रहा कि राजनीति का व्यापार हो रहा है या व्यापार की राजनीति हो रही है। ऐसा लग रहा है कांग्रेस को चलाने का काम भी धीरे-धीरे…
Read More...

गुस्ताखी माफ़- कृष्ण की कोई तैयारी नहीं की यादवी पहलवानों ने…ले आओ कैसा भी काम हो… कर…

कृष्ण की कोई तैयारी नहीं की यादवी पहलवानों ने... हर वर्ष यादवी समाज द्वारा जन्माष्टमी पर अपनी ताकत का परिचय देने के लिए केवल शोभायात्रा निकालकर अपने आप को शहरभर में दिखाने का काम कर लेते थे। इस बार 18 अगस्त को जन्माष्टमी दरवाजे पर खड़ी…
Read More...

गुस्ताखी माफ़-मुख्यमंत्री को लेकर पेंच…दयालु के कौन से जादूगर आएंगे….संजू बाबू एक से…

मुख्यमंत्री को लेकर पेंच... नए महापौर के शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर कुछ व्यवधान दिखाई दे रहे हैं। प्रशासनिक सूत्र भी मान रहे हैं कि मुख्यमंत्री का आना कठिन होगा। शपथ ग्रहण समारोह में महापौर और पार्षदों को शपथ…
Read More...