गुस्ताखी माफ़- घर बिठाए भाजपाइयों का महाकुंभ…

गुस्ताखी माफ़ घर बिठाए भाजपाइयों का महाकुंभ... शुचिता-संस्कार की भाजपा के कई संस्कारी नेता जो नई रणनीति और नए संस्कारों के कारण या तो घर बैठ गए हैं या बैठा दिए गए हैं। कोई पूछपरख अब होने की संभावना नहीं दिख रही है। ऐसे नेताओं की उम्र भी…
Read More...

गुस्ताखी माफ़- बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच भगत की भक्ति में ही सार बचा है..

बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच भगत की भक्ति में ही सार बचा है.. राजनीति में कोई किसी नेता का लंबे समय दुश्मन नहीं रहता और लंबे समय दोस्त भी नहीं रहता। भाजपा में यह परंपराएं अब पहले से ज्यादा बदलने लगी हैं। रायता फैलने की प्रवृत्ति इतनी…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: भाजपा धरम, धार के बाद सत्य से मुक्त….वाह.. भाषा ही सुधर गई….

भाजपा धरम, धार के बाद सत्य से मुक्त ( गुस्ताखी माफ़) इन दिनों भाजपा में अजीब सी उहापोह की स्थिति निर्मित होती जा रही है। जमीनी और समर्पित कार्यकर्ता मान रहे हैं कि पार्टी को अब न रमेश की जरुरत है और न उमेश की। पार्टी अब कार्यकर्ताओं से…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: भाजपा तीरथ एक बार…

भाजपा तीरथ एक बार... पिछले दिनों क्षेत्र क्रमांक एक के विधायक संजू बाबू ने अपनी तीरथ यात्रा प्रधानमंत्री को क्या समर्पित कर दी, सारे समीकरण ऊपर-नीचे हो गए। कांग्रेसियों का मानना है कि यह तो होना ही है। वैसे भी महापौर चुनाव के बाद अपने ही…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: हर जोड़ में बेजोड़ कांगे्रसी…अपनी ढपली-अपना राग…

हर जोड़ में बेजोड़ कांगे्रसी... (गुस्ताखी माफ़) भाजपा में गंगाजली स्नान के बाद प्रवेश पाने वाले कांग्रेसी ही विश्वास योग्य रहते हैं। और इसीलिए उनका परचम भी भाजपाईयों पर भारी पड़ता है। गंगा स्नान के बाद भाजपा में शामिल तुलसी पेलवान आज भी…
Read More...

गुस्ताखी माफ़- अब मिठास कड़वी हुई…चलने लायक नहीं रहे…

अब मिठास कड़वी हुई... (गुस्ताखी माफ़) नए-नए महापौर अब धीरे-धीरे शहर के नेताओं को समझने में सफल हो रहे हैं। ऐसे में उन्होंने अब कुछ नेताओं से अपनी दूरी बनाना शुरू कर दी है। जहां पहले रिश्तों की चाशनी ऐसी गाढ़ी दिखाई देती थी कि लोगों को लगता…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: (Umesh Sharma) सत्ता की फसल में उगे नेताओं ने जमीनी कार्यकर्ता को गला दिया

(गुस्ताखी माफ़: Umesh Sharma) भाजपा का जांबांज नेता जो भाजपा की नई संस्कृति और संस्कार की भेंट अंतत: चढ़ गया। भाजपा के जमीनी कार्यकर्ता का इस तरह जाना उन तमाम स्थापित नेताओं के लिए भी एक सबक है, जो तमाम रायशुमारी और कार्यकर्ताओं की पहचान…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: आईए… कुछ समय तो गुजारिये नंदा नगर की गलियों में, गणेशजी और रमेशजी के साथ

(ramesh mendola) इन दिनों आपको इस क्षेत्र के विराट रूप के दर्शन तो होंगे ही, साथ ही आपको लगेगा कि किसी महोत्सव में शामिल हो रहे हैं। किसी जमाने में जब लोग महेश्वर में विद्वान और वैदो के ज्ञाता मंडन मिश्र के आश्रम पर जाते थे, तो…
Read More...

गुस्ताखी माफ़-जमीनी नेता अब जमीन पर दिखाई देंगे, अपनों ने ही आग लगाई…जलवा पूजन बंद…हिसाब…

जमीनी नेता अब जमीन पर दिखाई देंगे इन दिनों भाजपा के जीते और हारे नेताओं के मन में अगले विधानसभा चुनाव को लेकर भले ही लड्डू फूट रहे हों, रात को विधायक होने के सपने आ रहे हों, पर इस बार जो समीकरण संगठन स्तर पर बन गए हैं, वह बता रहे हैं…
Read More...

गुस्ताखी माफ़: दूध से जले नहीं पर छाछ भी फूंक-फूंक कर पी रहे हैं…बड़े फेरबदल के साथ उतरेंगे नए…

दूध से जले नहीं पर छाछ भी फूंक-फूंक कर पी रहे हैं... अंतत: महापौर परिषद में विभागों की रेवड़ी बंट ही गई। लम्बी खींचतान और ज्ञान धरा रह गया, परंतु अभी भी महापौर हर कदम फूंक-फूंक कर रख रहे हैं। इसका कारण यह है कि पुराने महापौर जितने भी रहे…
Read More...