गुस्ताखी माफ़- घर बिठाए भाजपाइयों का महाकुंभ…

बाबा के चक्कर में घनचक्कर...सैंया की मलाई नहीं खा सके कोतवाल

गुस्ताखी माफ़

गुस्ताखी माफ़

घर बिठाए भाजपाइयों का महाकुंभ...

शुचिता-संस्कार की भाजपा के कई संस्कारी नेता जो नई रणनीति और नए संस्कारों के कारण या तो घर बैठ गए हैं या बैठा दिए गए हैं। कोई पूछपरख अब होने की संभावना नहीं दिख रही है। ऐसे नेताओं की उम्र भी पैंसठ पार होने के हालात बन गए हैं। सबकुछ लुटा कर अब होश में आ रहे ये नेता एक जाजम पर आने वाले दिनों में दिखाई देने वाले हैं। दीपावली मिलन समारोह के नाम पर इस प्रकार के कार्यकर्ता और नेता भाजपा के वरिष्ठ नेता के नेतृत्व में एकत्र होने जा रहे हैं। इसमें विधायकों से प्रताड़ित नेता भी शामिल हैं। इस सम्मेलन में उन नेताओं के परिजनों को भी आमंत्रित किया जा रहा है, जिनका पार्टी में बड़े नेता शोषण करते रहे और अब उनका परिवार संघर्ष कर रहा है। इस आयोजन के संयोजकों में जुड़े एक नेता ने बताया कि पिछले पंद्रह साल से सत्ता और संगठन की मलाई खा रहे नेताओं ने चुनावी हार के बाद सबक न लेते हुए कांग्रेस के निष्ठावान होने का प्रमाण-पत्र लेकर भाजपा में शामिल हुए नेताओं के भरोसे फिर से सरकार बना ली। सरकार में अब चापलूसी को प्राथमिकता मिल रही है। ऐसे में पुराने नेताओं को एक जाजम पर लाकर कुछ बड़ा फैसला किया जाएगा। अब देखना होगा कि आयोजन के पहले रायता फैलाने के प्रयास कितने सफल होते हैं।

Also Read – गुस्ताखी माफ़- बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच भगत की भक्ति में ही सार बचा है..

बाबा के चक्कर में घनचक्कर…

mahendra hardia

क्षेत्र क्रमांक पांच इन दिनों भाजपा के कई नेताओं के सपनों में आने लगा है। कांग्रेस का तो यहां कोई घनी-घोरी बचा नहीं है और जो बचे हैं, वे जमीन तैयार करने में ही समय खराब कर रहे हैं। ऐसे में क्षेत्र क्रमांक पांच नए समीकरणों में जाता दिखाई दे रहा है। कहने वाले तो यहां तक कह रहे हैं कि दादा दयालू इस बार क्षेत्र क्रमांक पांच में अवतरित हो रहे हैं। कारण आकाश बाबू दो नंबर के धार्मिक आयोजनों में इन दिनों जुटे हुए हैं तो दूसरी ओर लंबे समय से विधायक महेंद्र बाबा की जड़ों में दही डाल रहे भाजपा अध्यक्ष गौरव बाबू ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। तैयारी यहां तक शुरू हो गई है कि कोई आश्चर्य की बात नहीं किसी दिन वे क्षेत्र विशेष में रोजा इफ्तार करते हुए भी दिख जाएं। उनके करीबी कह रहे हैं कि जो ताकत भगत की भक्ति में है, वह लालवानी की शक्ति में भी नहीं है। ऐसे में माना जा रहा है उम्रदराज हो चुके महेंद्र बाबा इस बार सेवानिवृत्त हो रहे हैं। देखना होगा ऊंट किसी करवट बैठता भी है या खड़ा ही रहेगा।

सैंया की मलाई नहीं खा सके कोतवाल

सैंया को पता ही नहीं और कोतवाल बाहर के बाहर ही मलाई लूट ले गए। भांडा फूटने पर दो से तीन टुकड़ों में मलाई वापस दी गई। सियागंज के बड़े कारोबारी गलियारों में इस बात की बड़ी चर्चा है कि पिछले दिनों मिलावट के मामले में एक कारोबारी को जब पकड़ा गया तब यह बताया गया था कि रासुका की कार्रवाई भी की जाएगी।

gustakhi maaf

इधर, कारोबारी ने राजनेता के साथ अपने पुराने रिश्तों और रिश्तेदारों की दुहाई दी तो उनके छर्रों ने पच्चीस पैकेट मलाई आगे कार्रवाई नहीं होने के बदले में ले ली। इधर, इसकी भनक कोतवाल ने लगने तो नहीं दी, पर सैंया के सूत्रों ने सारा मामला खोल दिया। जैसे-जैसे गला दबने लगा, छर्रों से माल निकलने लगा। तीन टुकड़ों में मलाई के पैकेट वापस पहुंच गए। कारोबारी अपने मित्रों के साथ यह दु:खड़ा रो रहे हैं कि बताओ, जिससे कोई लेना-देना नहीं था, वह भगवान निकला और जो लेने-देने में थे, वे ही चूना लगा गए। बाकी जानकारी आप अपने स्तर पर भी ले सकते हैं।

फिर उगने लगे मेरिज गार्डन

नगर निगम द्वारा पिछले दिनों मिल क्षेत्र में बड़ी कार्रवाई करते हुए सरकारी भूमि पर बने कई वैवाहिक गार्डनों को जमीन में मिला दिया था। लाखों रुपए की अवैध उगाही इन गार्डनों से हो रही थी। शादियां भी धूमधाम से की जा रही थीं। अब एक बार फिर इसी सरकारी भूमि पर गार्डन वापस उगने लगे हैं। जो गार्डन कार्रवाई के दौरान चार धाम तीरथ यात्रा पर जा चुके थे, वे भी वापस टीन-टप्पर लगाकर मैदान किराए से देने लगे हैं। गुस्ताखी माफ़
-9826667063

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.