गुस्ताखी माफ़: हर जोड़ में बेजोड़ कांगे्रसी…अपनी ढपली-अपना राग…

हर जोड़ में बेजोड़ कांगे्रसी…

gustakhi maaf
gustakhi maaf

(गुस्ताखी माफ़) भाजपा में गंगाजली स्नान के बाद प्रवेश पाने वाले कांग्रेसी ही विश्वास योग्य रहते हैं। और इसीलिए उनका परचम भी भाजपाईयों पर भारी पड़ता है। गंगा स्नान के बाद भाजपा में शामिल तुलसी पेलवान आज भी कांग्रेसियों पर ही भाजपा में भरोसा करते हैं। वे कभी भी अपनी ओर से किसी भाजपाई कार्यकर्ता को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास नहीं करते हैं। इसी के चलते इंदौर नगर निगम चुनाव का मामला हो तो भी उन्होंने अपनी ओर से कांग्रेस से भाजपा में आए अपने खास समर्थकों को उम्मीदवार बनवा ही लिया तो दूसरी ओर सांवेर में उन्होंने अपने खास सिपहसालार दिलीप चौधरी को विधायक प्रतिनिधि बनाकर नगर पंचायत में स्थापित कर दिया। तो दूसरी ओर भारतसिंह चौहान को जनपद में स्थापित कर दिया। यानी भाजपा के कार्यकर्ता न चाहकर भी वापस इन्हीं के पास हाथ जोड़ने पहुंचते हैं। इस मामले में भाजपा नेताओं का भी कहना है कि पेलवान की जमावट ऐसी है कि यदि कुछ ऊंचा-नीचा हुआ तो अपने लोगों के साथ ही नमस्ते कर लेंगे। इस मामले में तो भाजपा के भी नेता मानते हैं कि यह नजायज रिश्ते अपने आप ही एक दिन बिखर जाएंगे। अब यह वक्त बताएगा कि किसने किसका उपयोग किया।

 

Also Read – गुस्ताखी माफ़- अब मिठास कड़वी हुई…चलने लायक नहीं रहे…

अपनी ढपली-अपना राग…

इन दिनों नगर निगम में नए-नए महापौर अपनी तरफ से शुचिता और संस्कार के तहत कुछ अच्छा करने का प्रयास तो कर ही रहे हैं और इसी के चलते उन्होंने प्रदेश भर में पहले महापौर के रूप में इलेक्ट्रिक कार लेकर यह बता दिया कि मितव्ययिता से वे दूर हैं। इधर, दूसरी तरफ एमआईसी में शामिल भाजपा के पार्षद नई-नई इनोवा कार कसवा रहे हैं, जो पूर्ण सुविधायुक्त हो रही है, यानी हर दिन तीन लीटर डीजल बहुत खराब हालत में भी लग ही जाएगा। इधर डीजल सौ रुपए लीटर हो रहा है। नौ हजार रुपए महीना तो डीजल में ही खर्च होना हैं तो दूसरी ओर नगर निगम द्वारा पार्षदों का मानदेय छह हजार रुपए तय कर रखा है। ऐसे में अब यह अधिभार कहा जाएगा, सोचने की बात है। जो भी हो, इसके पूर्व भी लाखों की कारें कसवाई गई हैं।

बात हजम नहीं हो रही…

इन दिनों भाजपा में बड़ी चर्चा है कि नगर निगम के महापौर और नगर अध्यक्ष दोनों ही भाजपा के सदस्य नहीं हैं। वे न पहले बने हैं, बाद में यदि सदस्यता ली हो तो इसकी भी कोई जानकारी भाजपा संगठन के पास नहीं है। अब यह भाजपा की लीला है, भाजपा ही जाने। (गुस्ताखी माफ़)

-9826667063

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.