गुस्ताखी माफ़-गौरव बाबू थक गए…शिकायतों का कार्यक्रम शुरू…ढाई-ढाई साल का पैमाना…

गौरव बाबू थक गए…

क्षेत्र क्र. 3 के विधायक आकाश बाबू को लेकर महापौर शपथ ग्रहण समारोह के दिन जो खबर छन के आ रही है वह बता रही है कि मंच पर उनके सम्मान का कोई ध्यान नहीं रखा गया और इसी से नाराज होकर उन्होंने कार्यक्रम बीच में ही छोड़ दिया और वे जाने लगे। इस दौरान भाजपा के नगर अध्यक्ष गौरव बाबू जो बड़े नेताओं के साथ खड़े थे, उन्हें किसी ने बताया कि विधायकजी नाराज हो गए हैं और जा रहे हैं। इस पर बड़े नेताओं के बीच गौरव बाबू ने तंज कसा कब तक तोकूं। दोनों को तोकते-तोकते थक गया हूं। वरिष्ठता भी कोई चीज होती है। इस दौरान बड़े नेता जो यहां खड़े थे, वे भी केवल खड़े ही रहे।

शिकायतों का कार्यक्रम शुरू…

नगर निगम आयुक्त को लेकर भाजपा के पुराने महापौर और बड़े नेताओं ने अपनी नाराजगी उन तक पहुंचा दी है। नए महापौर के शपथ ग्रहण से लेकर तीन मौकों पर प्रोटोकॉल का ध्यान नहीं रखा गया। बताया जा रहा है कि महापौर को दी जाने वाली सुविधाओं यानी चार्ज लेने के समय भी वे मौजूद नहीं रहीं, चली गई थीं। दूसरी ओर परिषद की बैठक में पार्षद जब अपना परिचय दे रहे थे तो भी वे चली गई थीं। इसकी शिकायत की गई है। हालांकि सूत्र बता रहे हैं कि एक बार वे आईडी की बैठक में और दूसरी बार जिला प्रशासन की किसी बैठक में जाने के लिए गई थीं।

ढाई-ढाई साल का पैमाना…


नगर निगम में कांग्रेसी पार्षदों को साधने के बाद प्रतिपक्ष नेता अंतत: चिंटू चौकसे बन ही गए। इस बार शेख अलीम मुस्लिम पार्षदों की बढ़त के बाद भी पिछड़ गए। उनकी राय को तवज्जो नहीं मिली। इसका कारण यह था कि मुस्लिम पार्षदों में ही अलीम को लेकर खींचतान मची हुई थी। लम्बे समय से मोर्चा ले रहे इकबाल खान ने भी खुला विरोध किया। इसके चलते जीतू पटवारी भी दीपू यादव को हवा भरते रहे परंतु वे भी अंतत: दरकिनार हो गए। सूत्र कह रहे हैं कि इन दिनों नाथ और जीतू के बीच दूरी अच्छी-खासी बढ़ गई है इसलिए वे भी तवज्जो ज्यादा नहीं दे रहे हैं।

-9826667063

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.