सुलेमानी चाय- नौजवान नशे में मस्त, तो जिम्मेदार मदमस्त…खजराने के युवा नेताओं को इफ्तेखार गुड्डू की नसीहत… रानीपुरा में आसन जमा रहे गोयल…चड्डी छोड़ लंगोट कस रहे मोगली…

नौजवान नशे में मस्त, तो जिम्मेदार मदमस्त…
शहर के लगभग सभी मुस्लिम इलाके इस वक्त नशे के जाल में फसते चले जा रहे हैं, जिस पर इलाके के जिम्मेदार पुलिस और शासन-प्रशासन पर इल्जाम लगा कर इन नशे के आदि हो चुके नौजवानों को बुरा भला कहकर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हंै, अगर जिस्म का कोई हिस्सा खराब होने लगे तो इलाज के पहले ही उसे काट कर फेंक देना समझदारी नहीं होती, कुछ ऐसी ही हालत इन दिनों हमारे क्षेत्रों की हो रही है,आज हर जिम्मेदार नशा करने वालों के खिलाफ तो आसानी से बोल कर अपना फर्ज निभा देता है, लेकिन इस बुराई को अपने मुआशरे से कैसे दूर किया जाय.. इस पर किसी की फिक्र नहीं है। दो काजी, नौ पूर्व पार्षद, सैकड़ों पार्षद उम्मीदवार, सैकड़ों नेता, समाजसेवी, मस्जिद कमेटी, मस्जिद इमाम इलाके के पत्रकार और बुद्धिजीवी किसी का इस बुराई को खत्म करने की तरफ कोई कदम नहीं, कहीं ऐसा न हो कि एक वक्त ऐसा आए की हम सब कटघरे में खड़े रहें और ये नौजवान नशेड़ी हम पर इल्जाम लगाएं कि इनका मेरे साथ क्या सुलूक था मैं तो नशे में था ये सब तो होश में थे….

खजराने के युवा नेताओं को इफ्तेखार गुड्डू की नसीहत…


खजराने की जमीन पर कुकुरमुत्ते की तरह उग रहे नेताओं को खजराना व्यापारी एसोसिएशन के संस्थापक इफ्तिखार अहमद गुड्डू ने सोशल मीडिया पर नसीहत दे डाली, जिसमें युवा नेताओं को आई ए एस, आई पी एस, डी एम, एस डी एम, पटवारी पुलिस को भी मुस्तकबिल के लिये बेहतर विकल्प बताया, सोशल मीडिया पर गुड्डू की बात काफी वायरल हुई लेकिन वायरल होने से ही काम नहीं बनता, इसका असर खजराना के हर चौथे घर से निकलने वाले भावी पार्षद पर हो तो काम की बात है, जो कि भविष्य में पार्षद के अलावा कुछ और बनना ही नही चाहते…


रानीपुरा में आसन जमा रहे गोयल…
सांड-सांड की लड़ाई में इस बार शहर निगम चुनाव में बागड़ को नुकसान हो सकता है, इस बार बीजेपी शहर के मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में हिन्दू कार्ड खेल सकती है, जिसमे शहर का अंसारी वार्ड जिसमें एक नन्ना और एक मुन्ना दोनों अन्सारियों के बीच भाजाप के गोयल उम्मीद से दिखाई दे रहे हंै, वहीं शहर के दूसरे भी कुछ मुस्लिम क्षेत्र ऐसे हैं, जहाँ मुस्लिम उम्मीदवारों की तादाद ज्यादा है, और वोट आपस में बंट सकते हंै, वहां भी भाजपा किसी हिन्दू को टिकट देकर तुक्का लगा सकती है, ऐसे तुक्को से नन्ने मिया ओर मुन्ने मिया की क्या हालत होगी ये तो वक्त ही बतायगा।

दुमछल्ला…
चड्डी छोड़ लंगोट कस रहे मोगली…
आज़ाद नगर के इकलौते वारिस शेख अलीम फिर रिआया की मांगों को पूरा करने निकल पड़े है, क्योंकि इम्तेहान की तारीख नजदीक है। वार्ड में इस बार उम्मीदवारों का मेला लगने वाला है। कई मोगली चड्डी छोड़ लंगोट जंगिया कस रहे है, क्योंकि कोई भी उतार सकता है, इससे कमल को भी खिलने का रास्ता दिख रहा है।
-9977862299

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.