गुस्ताखी माफ़-ताकत दिखाने में कांग्रेसी नेताओं में मोर्चे खुल गए…गौरव बाबू के कितने उम्मीदवार…

ताकत दिखाने में कांग्रेसी नेताओं में मोर्चे खुल गए…

कांग्रेस में अब कई नेता एक दूसरे को नीचा दिखाने में कसर बाकी नहीं रख रहे हैं और इसका परिणाम यह हो रहा है कि कई दिग्गज दूसरे नेताओं के क्षेत्रों में बड़ा हस्तक्षेप कर रहे हैं। हालत यह हो गई है कि पिछले दिनों शहरी क्षेत्र में रहने वाले राजेश सिलावट को जिले का सेवादल अध्यक्ष बनाकर दो नेता इंदौर में नियुक्ति कराने मेंसफल हो गये हैं। जबकि राजेश सिलावट ग्रामीण क्षेत्र के नेता ना थे और ना रहे। उनका मकान क्षेत्र क्रमांक 3 के पवनपुरी दुर्गा नगर में है। राजेश सिलावट ने भी अपनी ताकत दिखाने के लिए पालदा में बड़े लवाजमे के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए दिग्गी राजा के पुत्र को भी आमंत्रित कर लिया। वे भी इंदौर आ गये अब सवाल उठा की जिस स्थान पर कार्यक्रम हो रहा है वह विधानसभा जीतू पटवारी की है। राजेश सिलावट का अपने आकाओं के कहने पर जीतू पटवारी को निमंत्रण भी नहीं दिया और मिलने भी नहीं पहुंचे वे यह बताना चाहते थे कि राऊ विधानसभा में भी उनकी ताकत है। दूसरी ओर अपना भविष्य देख रहे दिग्गी राजा के पुत्र जयवर्द्धन जब कार्यक्रम में पहुंचे और उन्हें हकीकत बता लगी तो उन्होंने अपने संस्कार दिखाते हुए खुद ही पटवारी के निवास पर पहुंचे जहां एकांत में जीतू पटवारी ने राजेश सिलावट की नियुक्ति को लेकर कड़ा एतराज दर्ज कराया। बात यहां तक हुई है कि जिन्होंने नियुक्ति कराई है वेकांग्रेस भी संभाल $ले। जैसे तैसे अनुनय विनय के बाद जीतू पटवारी कार्यक्रम में शामिल हुए। अब इसी कार्यक्रम का एक ओर सिरा क्षेत्र क्रमांक तीन मेें भी लग रहा था। उधर क्या हुआ पता नहीं पर जो भी हो इंदौर में इस समय कांग्रेस के नेताओं के बाद दूसरी नेता को नीचा दिखाने के लिए की जा रही चवन्नी छाप नियुक्तियों ने अच्छा खासा जुतम पैजार शुरु करवा दिया है।

गौरव बाबू के कितने उम्मीदवार…

अब निकाय चुनाव से लेकर पंचायत चुनाव तक की रणभेरी बज चुकी है। हर विधानसभा में उम्मीदवार अपने कुर्तेपजामे तैयार कर चुके हैं। केवल सीटी बजने की देर है और दौड़ शुरु हो जाएगी। भाजपा में भी इस दौड़ में इस बार तीन सौ से अधिक नेता पार्षद बनने की तमन्ना में अपने समीकरण बना रहे हैं। परंतु इस बीच कई लोग यह मान रहे हैं कि भाजपा के नगर अध्यक्ष गौरव रणदीवे उन्हें मैदान में उतार पायेंगे। इस मामले में एक बड़ी ही दिलचस्प जानकारी बड़े नेताओं ने दी है। उनके अनुसार गौरव बाबू एक भी विधानसभा में अपना पार्षद नहीं खड़ा कर पायेंगे। क्षेत्र क्रमांक 1 में इस बार बड़ा शक्ति प्रदर्शन सुदर्शन गुप्ता, टीनू जैन, उषा ठाकुर का ही रहेगा। यहां पर कुछ उम्मीदवार भोपाल के कोटे में भी दिखाई देंगे। दूसरी ओर क्षेत्र क्रमांक दो में तो दादा दयालु की खींची हुई लक्ष्मण रेखा को देख लेने से ही सब पता लग जाता है। ना उधर से कोई उम्मीदवार आ रहा है ना इधर से कोई उन्हें बुला रहा है। जिसने भी लक्ष्मण रेखा कुदीजीवन हवन हो गया। क्षेत्र क्रमांक 3 की भी इस बार यही स्थिति है। पर यहां पर दो टिकट उषा ठाकुर ने भी मांगे हैं। चार नंबर में मालिनी गौड़ के क्षेत्र में गौरव बाबू कुछ नहीं कर पायेंगे। पांच नंबर में जरुर वे अपने विधानसभा उम्मीदवारी को लेकर हाथ पांव मार रहे है। पर यहां पर भी इतना आसान नहीं होगा। इसके पहले भी जो नगर अध्यक्ष रहे उनका बहुत बेहतर रुतबा नहीं रहा। कैलाश शर्मा पूरा जोर लगाकर केवल एक टिकट ही ला पाये थे। 85 वार्डों में से 40 वार्डों के उम्मीदवार तो पहले से ही तय दिखाई दे रहे है। अब उनके नाम किसी और दिन…

-9826667063

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.