श्रावण मास में निगम बढ़ाएगा ज्योतिर्लिंग बसों के फेरे

अभी दो बार चल रही, चार पर बनेगी सहमति

श्रावण मास में निगम बढ़ाएगा ज्योतिर्लिंग बसों के फेरे

इंदौर। श्रावण मास में भक्तों की सुविधा को देखते हुए एआईसीटीएसएल अपनी ज्योतिर्लिंग बसों के फेरे में बढ़ोतरी करेगा। वर्तमान में यह बसें दो फेरे ले रही है। चार फेरों की सहमति बनाई जाएगी। बसों के टाइमिंग में भी आंशिक परिवर्तन किया जा सकता है। फेरे और टाइमिंग बढ़ाने का निर्णय महापौर पुष्यमित्र भार्गव और निगमायुक्त हर्षिका सिंह लेंगी। फेरे बढ़ने से निगम की आय में भी बढ़ोतरी होगी, वहीं भक्तों को ज्योतिर्लिर्ंग तक जाने में आसानी रहेगी।

कल 4 जून से श्रावण मास की शुरुआत के साथ ही भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक होने लगेगा। सुबह से मंदिरों में भक्तों का जमावड़ा होने लगेगा। भगवान का जलाभिषेक के साथ पूजन भी किया जाएगा। इस बार अधिमास होने से श्रावण मास भी दो हैं। 60 दिन का श्रावण मास होने से कावड़ यात्रा भी अधिक निकलेगी। इस पवित्र माह में सैकड़ों भक्त कावड़ यात्रा के रुप में ओंकारेश्वर और उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर तक जाते हैं। दोनों मंदिरों पर जलाभिषेक होता है। कुछ भक्तगण श्रावण सोमवार को उज्जैन में निकलने वाली पालकी यात्रा में शामिल होने जाते हैं। ऐसे भक्तों की संख्या भी हजारों में है।

Also Read – दीपक मद्दा सरकारी गवाह बनने को तैयार, भू-माफियाओं में हड़कंप, पिंटू छाबड़ा से लेकर संघवी परिवार, अरुण गोयल अब उलझेंगे…

श्रावण मास में भक्तों को सुविधाएं देने ज्योतिर्लिंग बसों काफी राहत देगी। यह बसें गत वर्ष सितम्बर माह में शुरू की गई थी, जिन्हें बेहतर प्रतिसाद मिल रहा है। दोनों बसें खचाखच भरकर ज्योतिर्लिंग तक जाती है। एआईसीटीएसएल के सूत्रों ने बताया कि इन बसों का संचालन अगले कुछ दिन में बढ़ जाएगा। बढ़ाया गया समय रक्षाबंधन तक ही रखा जाएगा। इसके बाद वापस यह बसें दो फेरे ही लेंगे। बसों के फेरे बढ़ने से ओंकारेश्वर और उज्जैन जाने वाले भक्तों को सुगम और सस्ती सेवाएं मिल सकेगी। इसी बीच, एआईसीटीएसएल महाकाल मंदिर के समीप भस्मार्ती बस सेवा शुरू करने बस स्टैंड बनाने की योजना पर भी उज्जैन विकास प्राधिकरण ने इंदौर नगर निगम विचार-विमर्श करेगा। बस स्टैंड बनने के बाद रात्रिकालीन बसें भी शुरू की जाएगी, जिससे भस्मार्ती में शामिल होने वाले भक्तों को लाभ मिलेगा।

मंदिरों में लगेगी भीड़

कल से श्रावण मास शुरू होने के बाद शहर व जिले के आसपास के शिव मंदिरों में भक्तों का आने का क्रम शुरू हो जाएगा। श्रावण मास को देखते हुए मंदिरों में व्यवस्थाएं चाक चौबंद की जा रही है। खासकर, गेंदेश्वर मंदिर परदेशीपुरा, नवलखा स्थित कांटाफोड़ मंदिर, देवगुराड़िया में भक्तों की कतारें अधिक लगेगी। दिनभर मंदिरों में अभिषेक पूजन का क्रम चलता रहेगा।

You might also like