पाकिस्तान: उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश

पाकिस्तान में सेना ने संभाली कमान, कई राज्यों में हालात बिगड़े

इस्लामाबाद। Pakistan: Orders to shoot miscreants on sight पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को गोली मारने के बाद उनकी हालत अब खतरे से बाहर है, लेकिन पाकिस्तान के हालात ज्यादा बिगड़ चुके हैं। सेना ने कमान अपने हाथ में संभाल ली है, वहीं उपद्रव करने वालों को देखते ही गोली मारने के आदेश दे दिए गए हैं। कई राज्यों में हालात बेकाबू हो चुके हैं।

Pakistan: Orders to shoot miscreants on sight

पूर्व पीएम इमरान खान अब खतरे से बाहर हैं, लेकिन पाकिस्तान में सियासी संकट खड़ा होने वाला है। पहली बार सेना के खिलाफ पाकिस्तान में ऐसा आक्रोश देखा जा रहा है और इस पूरे माहौल में इस बात की आशंका बहुत तेज हो गई है कि अपने खिलाफ उठी आवाम की इस आवाज को कुचलने के लिए पाकिस्तानी सेना मार्शल लॉ लगा सकती है यानी सरकार को भंग करके पाकिस्तान की कमान अपने हाथ में ले सकती है।

Also Read – Ballistic Missiles: नॉर्थ कोरिया के 3 बैलिस्टिक मिसाइल दागने से हड़कंप

लाहौर से लेकर लंदन तक और इस्लामाबाद से लेकर रावलपिंडी तक पाकिस्तान के कोने-कोने में पाकिस्तानी सेना के खिलाफ आक्रोश दिखाई दे रहा है. ये आक्रोश इसलिए क्योंकि इमरान खान की पार्टी और उनके समर्थक इस हमले के लिए पाकिस्तानी सेना को जिम्मेदार मान रहे हैं. चलिए अब उन सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश करते हैं जो इस समय हर किसी के मन में उठ रहे हैं। Pakistan: Orders to shoot miscreants on sight

मदरसों में किस विषय की पढ़ाई कर रहे इसका भी होगा सर्वे

लखनऊ। प्रदेश में अनुदानित मदरसे के छात्र किस विषय की पढ़ाई कर रहे हैं, इसका भी सर्वे होगा। उन्हें किस विषय की कितनी पुस्तकों का निशुल्क वितरण हुआ है। यह सूचना पाठ्यपुस्तक अधिकारी डॉ. पवन कुमार ने सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों से मांगी है। दरअसल अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री धर्मपाल सिंह ने निर्देश दिए थे कि मदरसों में पुस्तकों के वितरण को लेकर प्रारूप बदला जाए। छात्रों को कोर्स की एनसीईआरटी किताबों के लिए उनके अभिभावकों के खातों में सीधे पैसे दिए जाएं जिससे वे अपने बच्चों के लिए पाठ्यपुस्तकें खरीदकर दे सकें। मगर अब यह योजना खटाई में पड़ती नजर आ रही है। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अवैध रूप से चल रहे मदरसों के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.