बिना सुरक्षा उपकरणों से लैस किए ड्रेनेज लाइन में उतारे जा रहे निगमकर्मी

नियम-कानूनों को बला-ए-ताक में रख

बिना सुरक्षा उपकरणों से लैस किए ड्रेनेज लाइन में उतारे जा रहे निगमकर्मी

इंदौर (हितेश परिहार)।

पूरे शहर में नियम-कानूनों का ढोल पीटने वाले नगर निगम में खुद नियम-कानूनों का पालन नहीं हो रहा है। यही वजह है कि नियम-कानूनों को बला-ए-ताक में रखकर बिना सुरक्षा उपकरणों से लैस किए निगमकर्मियों को बलपूर्वक ड्रेनेज चैंबरोंं में उतारा जा रहा है। इसके चलते, कभी भी कोई भीषण हादसा हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि महानगर में नगर निगम के पास अरबों-खरबों रुपए का बजट होता है और निगमकर्मियों को सुरक्षा संसाधन उपलब्ध कराने के नाम पर खरीदी भी होती है। बावजूद इसके, अक्सर जब कभी जाम नालियों को खोलने के लिए निगम कर्मचारी ड्रेनेज चेंबर में उतरते हैं तो उनके पास सुरक्षा के कोई संसााधन नजर नहीं आते।

Also Read – Tandoor ban in indore: 11 माह पुराने प्रतिबंध की निगम और पुलिस प्रशासन ही उड़ा रहा धज्जियां

ऐसा ही एक मामला विगत दिवस सामने आया जब जोन क्रं. १७ के वार्ड १८ के एक चैंबर में जबरन संविदा कर्मचारियों को उतार दिया गया। जिन कर्मचारियों को चेेंबर में उतारा गया, उन्हें किसी भी प्रकार के सुरक्षा उपकरण या अन्य संसाधन भी उपलब्ध नहीं कराया गया । इससे कभी भी कोई भीषण हादसा हो सकता है।

बिना सुरक्षा उपकरणों से लैस किए ड्रेनेज लाइन में उतारे जा रहे निगमकर्मी

यहां पर यह भी प्रासंगिक है कि महानगर पहले भी कई बार ऐसे हादसों से दो-चार हो चुका है और इन हादसों में कई लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं। अब सवाल यह उठता है कि आखिर नियम कानूनों की धज्जियां बिखेरने वाले जिम्मेदारों के खिलाफ क्या कार्यवाही होगी…

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.