holkar stadium: निगम का सम्पत्तिकर 33 लाख बकाया

होलकर स्टेडियम में रोड सेफ्टी लीजेंड्स वर्ल्ड सीरीज, आयोजकों से वसूले 53 लाख

holkar stadium

holkar stadium इंदौर (शार्दुल राठौर)।

रोड सेफ्टी लीजेंड्स वर्ल्ड सीरीज में दूसरे चरण के मैचेस कल 17 से 19 सितंबर तक होलकर स्टेडियम में होना है। कल से शुरू होने वाले मैच के लिए मैजेस्टिक लीजेंड स्पोर्ट्स कंपनी से एमपीसीए ने व्यवस्थाओं के नाम पर 53 लाख रुपए वसूल लिए है। वहीं मैच के एक दिन पहले तक नगर निगम सम्पतिकर की राशि 33 लाख 54 हजार रुपए वसूलने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है, जबकि 2017 में हुए मैच से पहले 29 लाख रुपए की वसूली के लिए स्टेडियम के प्रशासकीय भवन को सील कर दिया था।

रोड सेफ्टी लीजेंड्स वर्ल्ड सीरीज के लिए जाने माने खिलाड़ी इंदौर पहुंच चुके हैं। शनिवार को यहां पहला मैच खेला जाएगा, जिसके टिकिट को लेकर अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं की गई है। इस बार मैच के लिए एमपीसीए ने क्रिकेट ग्राउंड किराए पर दिया है, जिसे लेकर लाइट सहित मैदान की अन्य व्यवस्थाओं के लिए एमपीसीए को 10 सितंबर तक लगभग 70 लाख रुपए की मांग की थी। भुगतान नहीं होने पर मंगलवार को आयोजक और उनके स्टाफ को स्टेडियम में काम करने पर रोक लगा दी थी, जिसके बाद आयोजकों ने 53 लाख रुपए की पहली किस्त जमा करा दी थी, लेकिन यहां इस बार नगर निगम ठगा रह गया समपत्तिकर वसूली का यह अच्छा मौका था। मैच शुरू होने से पहले निगम ने यह मौका गंवा दिया। समपत्तिकर की वसूली को लेकर इस बार नगर निगम द्वारा कोई प्रयास नहीं किए गए। उषाराजे होलकर क्रिकेट स्टेडियम में अब तक बकाया समपत्तिकर वसूली के लिए एक भी नोटिस नहीं दिया गया है।

road safety world series

स्टेडियम का नाम बदला खाते में वही पुराना नाम

दरअसल, होलकर स्टेडियम का नाम पहले महारानी उषाराजे स्टेडियम था। कुछ साल पहले स्टेडियम का नाम बदलकर होलकर स्टेडियम कर दिया गया, लेकिन नगर निगम के सम्प्पतिकर रेकार्ड में आज भी यह नाम महारानी उषाराजे ट्रस्ट ग्राउंड के नाम से दर्ज है, इसे लेकर मध्यप्रदेश क्रिकेट एसोशिएशन और उषाराजे ट्रस्ट निगम को सम्पतिकर की राशि देने के लिए तैयार नहीं हैष ट्रस्ट का कहना है की अब स्टेडियम हमारा नहीं है। वहीं एमपीसीए का कहना है की निगम के खाते में हमारा नाम दर्ज नहीं है तो हम सम्पत्ति क्यों भरें। holkar stadium

इनका कहना है…
होलकर स्टेडियम पर बकाया समपत्तिकर को लेकर अगले माह होने वाले आईपीएल मैच से पहले नोटिस देकर वसूली की जाएगी। राशि जमा नहीं करने पर जो भी वैधानिक कार्रवाई जरूरी होगी उसके आदेश दिए जाएंगे।
-भाव्या मित्तल,
उपायुक्त नगर निगम

 

Also Read – 30 हाईराइज बिल्डिंग को ही फायर एनओसी

स्टेडियम पर कार्रवाई के निगम के पास अधिकार

क्रिकेट एसोसिएशन ने आज तक मैदान का टैक्स ही नहीं चुकाया है। 1 लाख 61 हजार 801वर्गफीट के मैदान का व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा है। इस मैदान पर होने वाली गतिविधियों के लिए बकायदा टिकट बेचकर कमाई और मुनाफा कमाया जाता है। निगम शहर के तमाम बड़े खाली प्लॉटधारकों से टैक्स वसूली कर ही रहा है। मप्र नगर पालिका निगम अधिनियम की धारा 136 (डी) में सिर्फ उन्हीं खेल मैदानों को संपत्तिकर से छूट का प्रावधान है, जो आम लोगों के लिए खुला हो। होलकर स्टेडियम holkar stadium का मैदान आम लोगों के लिए नहीं है। यहां शुल्क लेकर सदस्य बनाए जाते हैं। साथ ही मैदान से व्यावसायिक लाभ भी अर्जित किया जाता है, इसलिए इस पर छूट लागू नहीं होती। स्टेडियम प्रबंधक छूट की पात्रता नहीं होने के बावजूद आज तक संपत्तिकर जमा नहीं करते हुए अन्य कर ही चुकाते रहे हैं।

पांच साल पहले आईपीएल मैच से पहले की थी कार्रवाई

इससे पहले वर्ष 2017 में 8 अप्रैल को होने वाले आईपीएल के मैच शुरू होने से पहले 29 लाख 9 हजार 605 रुपए के संपत्तिकर की वसूली के लिए निगम ने स्टेडियम सील करने की कार्रवाई की थी। उस वक्त उपायुक्त स्तर के दो अधिकारियों ने निगम के दल के साथ पहुंचकर स्टेडियम के प्रशासकीय भवन के साथ ही स्टेडियम के दो मेन गेट पर भी ताला जड़कर सील लगा दी थी। तब एमपीसीए के अधिकारी कार्रवाई को गलत बताते हुए मैच से पहले टिकट हासिल करने के लिए दबाव बनाने से भी जोड़कर बताया था। 

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.