इंदौरियों का रामबाण नुस्खा : लाल रंग की बोतल टांगो और कुत्तों को दुकानों से ‘छू’ करो

कई कालोनियों में घर के दरवाजे पर लटकी लाल रंग की बोलत का रहस्य

इंदौर। शहर की गली मोहल्लों में इन दिनों ट्रांसपेरेंट बोतल में लाल पानी भर कर रखा जा रहा हैं। कहते हैं कि ऐसा करने से आवारा कुत्ते घर के दरवाजे पर रुकना, भोंकना और टांग उठाना या गंदगी करना बंद कर देते हैं। कुछ लोगों का कहना है कि रंगीन पानी में ऐसा क्या होता है जो कुत्ते डर जाते हैं। यह कोई टोटका है या फिर कोई विज्ञान दैनिक दोपहर की टीम ने इस पर पड़ताल की तो कुछ रोचक जानकारी सामने आई।

कुत्तों के जानकारों व वेटनरी कॉलेज के अधिकारियों के अनुसार कुत्ते को लाल रंग में अंतर करने में परेशानी होती है। यही कारण है कि जंगल में कुत्ते सुबह या शाम जब प्राकृतिक प्रकाश कम होता है, तब सक्रिय होते हैं। इसलिए उन्हें कलर ब्लाइंडनेस के कारण ज्यादा परेशानी नहीं होती, लेकिन शहरी क्षेत्रों में रहने वाले ज्यादातर कुत्तों को मनुष्यों के कारण दिन में सक्रिय होना पड़ता है। इस कारण उनकी आंखें ज्यादा विकसित नहीं हो पाती हैं।

कुत्तों को लाल रंग दिखाई नहीं देता। इसका मतलब यह नहीं है कि इस रंग की वस्तु उनकी आंखों के सामने बनने वाले चित्र से गायब हो जाती है और उस वस्तु के पीछे जो होता है वह कुत्तों को दिखाई दे जाता है। बल्कि कलर ब्लाइंडनेस के कारण उन्हें लाल रंग देखने में तकलीफ होती है। वेटरनरी डिपार्टमेंट के अधिकारियों का कहना है कि कुत्तेे कलर ब्लाइंड होते हैं। उन्हें सीमित रंगों की पहचान होती है। घर के समाने लाल रंग की बोतलों को टांगने से कुत्तों की नजरों में किसी भी प्रकार की छवि नहीं बन पाती है जिससे कुत्तों में मानसिक ब्रह्म हो जाता है, जिससे वह असहाय होकर अजीब सा व्यवहार करने लगते हंै। या फिर डर कर भाग जाते हैं।

इसलिए वह उस स्थान को छोड़ देना पसंद करते हैं जहां पर लाल रंग होता है। कई बार कुत्ते बेवजह भोंकने लगते हैं, इसका कारण भी कलर ब्लाइंडनेस होता है। जब कोई वस्तु या मनुष्य लाल रंग पहनकर रोड की तरफ बढ़ रहा होता है तो कुत्ते भौंकने लगते हैं। क्योंकि कुत्तों को लाल रंग की छवि साफ नहीं दिखाई देती है। यही कारण है कि कालोनियों व कई मोहल्लों में घर के सामने लाल रंग की बोतलें टंगी या रखी देखी जाती है। घर के सामने आवारा कुत्तों द्वारा गंदगी कर देने से कई बार विवाद की स्थिति बन जाती है। इसे रोकने के लिए कुछ लोगों ने अपने घरों के सामने लाल रंग से भरी ट्रांसपेरेंट बोतल टांगने का नायाब व सटिक तरीका अपनाया है। लोगों का कहना है कि इससे आवारा कुत्ते घर के सामने न तो रुकते हैं और न ही गंदगी करते हैं।

निगम ने नहीं की कार्रवाई

बजरंग नगर में रहने वाले राजेन्द्र सोलंकी ने बताया कि यह किसी को नहीं पता है कि यहां घर के सामने बोतल में लाल रंग भरकर टांगने से कुत्ते क्यों शौच नहीं करते हैं। बस एक-दूसरे की देखादेखी लाल रंग से भरकर बोतल लटका रहे हैं, क्योंकि यहां के लोग कुत्तों से बहुत परेशान हैं। यहां कुत्तों का इतना आतंक है कि लोग बच्चों को अकेले घरों से नहीं निकलने देते हैं। इसको लेकर कई बार नगर निगम से शिकायत कर चुके हैं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ है।

आए दिन करते हैं शिकार

आए दिन ये कुत्ते किसी न किसी को अपना शिकार बना लेते हैं, फिर भी नगर निगम कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। मजबूरी में लोगों की देखा देख हमने भी लाल रंग से भरी ट्रांसपेरेंट बोतल घर के सामने टांगने का मन बना लिया है। जिससे घर के सामने कुत्तों का आना बंद हो रहा है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.