चीन, ताइवान पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी में

नैंसी पेलोसी की यात्रा समाप्ति के बाद एक और युद्ध शुरू होने के हालात, अमेरिका करेगा ताइवान की सहायता

बीजिंग। चीन ताइवान पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है। नैंसी पेलोसी की यात्रा की समाप्ति के बाद एक और युद्ध के हालात बनते जा रहे हैं। कल नैंसी 25 फाइटर विमानों के साथ पहुंची थी। चीन ताइवान को मुख्य भूमि का हिस्सा मानता है. बीजिंग का कहना है कि पेलोसी की यात्रा ‘एक-चीनÓ सिद्धांत और ‘तीन चीन-अमेरिकाÓ संयुक्त घोषणा के प्रावधानों का गंभीर उल्लंघन है।

बीजिंग ने कहा कि यह यात्रा ताइवान जलडमरूमध्य में शांति और स्थिरता को गंभीर रूप से कमजोर करती है और ताइवान की स्वतंत्रता के लिए अलगाववादी ताकतों को गलत संकेत देती है। उधर अमेरिका ने अपनी प्रतिबद्धता दौहराते हुए ताइवान की सहायता का ऐलान किया है।

ताइपे पहुंकर पेलोसी ने ताइवान के लोकतंत्र का समर्थन करने के लिए अपने देश की अटूट प्रतिबद्धता को व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि यह यात्रा किसी भी तरह से स्व-शासित द्वीप पर संयुक्त राज्य की नीति के विपरीत नहीं है।

चीन के सीमा शुल्क के सामान्य प्रशासन के डाटा से पता चलता है कि कई ताइवानी कंपनियां जिनकी पंजीकरण स्थिति अपडेटेड है, वे भी प्रतिबंध से प्रभावित हुई हैं। फोकस ताइवान के मुताबिक अपनी वेबसाइट पर, सीमा शुल्क प्रशासन ने क्रैकर्स, पेस्ट्री और नूडल्स श्रेणी के तहत कुल 107 पंजीकृत ताइवानी ब्रांडों को सूचीबद्ध किया है, जिनमें से 35 कंपनियों को अप-टू-डेट पंजीकरण होने के बावजूद अस्थायी रूप से निलंबित आयात के रूप में लेबल किया गया है।

चीन ने पेस्ट्री, पके हुए माल और मिठाई का उत्पादन करने वाली कई ताइवानी कंपनियों पर आर्थिक प्रतिबंधों और आयात प्रतिबंधों की भी घोषणा की है। मंगलवार को, चीन ने ताइवान की कई खाद्य कंपनियों के उत्पादों के आयात को अस्थायी रूप से रोक दिया। फोकस ताइवान के मुताबिक ताइवान की कृषि परिषद (सीओए) ने बताया कि ब्लैक लिस्ट में डाली गई कंपनियों में चाय की पत्ती, सूखे मेवे, शहद, कोकोआ बीन्स और सब्जियों के उत्पादकों के साथ-साथ मछली पकड़ने वाले लगभग 700 जहाज शामिल हैं।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.