मोदी की अपेक्षा गडकरी ज्यादा प्रभावी हो गए हैं

उनके भाषण और कार्यप्रणाली के कांग्रेसी भी मुरीद हो गए

इंदौर (वीरेन्द्र वर्मा)। केंद्र सरकार में एक केंद्रीय मंत्री ऐसे हैें, जिनको जनता के मंत्री बोल सकते हैं। हर समय जनता को सुविधा देना और उनकी जेब के खर्च को कम करने के विषय में सोचना ही हमेशा का लक्ष्य बना रखा है। भले ही वे भाजपा से संबंध रखते हो, लेकिन कांग्रेस नेता भी उनके मुरीद हैं। इनका नाम है नितिन गडकरी, जो देश के सड़क और परिवहन मंत्री हैं।

गडकरी कल इंदौर में थे और हमेशा की तरह जनता का दिल जीतने में कामयाब रहे, जो मांगा वो मंजूर किया। फिर वो फ्लाई ओवर ब्रिज हो या सड़क। सबकी हां-ना का कोई काम नहीं। बस मांगा तो यह की इंदौर को वायु, ध्वनि और जल प्रदूषण से मुक्त करने के लिए कदम उठाएं। गडकरी बोले की मैं मध्यप्रदेश में ढाई लाख करोड़ नहीं बल्कि वर्ष 2024 तक चार लाख करोड़ दे दूंगा। बस आप लोग भविष्य को ध्यान में रखकर योजना बनाएं।

आने वाले 25 से लेकर 50 साल के शहर की सोचें। जनता के मंत्री इसलिए की जनता के बीच उनके सरल और सहज होकर बात करने की चर्चा के साथ भविष्य की चिंता करना है। दूरदृष्टि के अनुसार योजनाओं पर काम करना गडकरी का लक्ष्य रहता है। उनकी इस शैली के मुरीद कांग्रेस के नेता भी हैं। वे असली लोकतांत्रिक नेता हैं जिनको देश की जनता प्रधानमंत्री के रूप में देखना पसंद करती है। जनता से मिलते हैं, उनसे बात करते हैं। उनकी सहजता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अपनी पत्नी से हुई बात को भी गंभीरता से लिया और हाइड्रोजन गैस से कार चलाने की चुनौती को स्वीकार करते हुए लागू करवाया। स्वयं भी उसी कार से दिल्ली में घुमते हैं।

सीख दे गए इशारों में

नितिन गडकरी मुख्यमंत्री को इशारों में सीख दे गए कि किसी भी सड़क योजना के पहले भू-अर्जन का कार्य पूर्ण करें, ताकि योजना में देरी न हो। जितनी जल्दी जमीन उपलब्ध करा दोगे, उतनी जल्दी काम शुरू होगा। यह भी कहा नितिन गडकरी ने कल आजादी का उल्लेख करते हुए कहा कि बहुत मुश्किल से मिली है आजादी। खूब बलिदान दिया है इस देश के लिए क्रांतिकारियों ने। गांधीजी और आजाद को भुलाया नहीं जा सकता।

फिर बोले कि इथेनॉल, हाइड्रोजन और बायो सीएनजी पर गाड़ियां चलाएं। प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी और जनता का स्वास्थ भी ठीक रहेगा। सबसे बड़ी बात की खर्च भी कम होगा। पेट्रोल और डीजल गाड़ियां चलाना बंद करो। पब्लिक ट्रांसपोर्ट में काम खर्च में एसी की सुविधा दो जनता को। कोई तकलीफ आ रही है तो मुझसे बात करें या पूछें। इथेनॉल पेट्रोल से आधे दाम में आता है। 60 रुपए लीटर तो आधा पैसों में काम होगा और बचत भी।

50 हजार बसें आ रही है, आपको भी मिलेगी। गडकरी ने जानकारी दी कि केंद्र सरकार सीएनजी से चलने वाली 50 हजार बसें ला रही है, आपको भी मिलेगी। आधे दाम में एसी का सफर करें।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.