सुलेमानी चाय-शुक्ला पठान की यारी पड़ रही सब पर भारी…छोटे चुनावों में बड़ी जुबानी जंग…मुस्लिम वार्डो में खनक रही चूड़ियां…

शुक्ला पठान की यारी पड़ रही सब पर भारी…

बड़े भय्या और खुरासान पठान की यारी पूरे इंदौर में मशहूर है, जब बड़े भय्या के परिवार से कोई शांत हुआ तो पठान साहब ने भी अपने बाल दिए, जब खुरासन पठान हज पर गए तो बड़े भय्या भी रेलवे स्टेशन उन्हे रवाना करने गए और सभी हाजियों को स्वागत में सोने की चेन बांटी। जब संजय शुक्ला 1 नंबर विधान सभा से चुनाव में खड़े हुवे तो 40 साल की तपस्या को दोस्ती पर कुर्बान कर दिया, और उस वक्त के नगर अध्यक्ष गोपी नेमा को फोन कर कहा मैं संजू का काम करूंगा वो मेरा भतीजा है। उन्हे मनाने शाहनवाज हुसैन गए तो उन्हे भी कह दिया कि वो मेरा परिवार है तो शाहनवाज़ हुसैन ने कहा आप असली पठान हो, अब फिर संजू मैदान में है। पठान साहब बीमार है और दोस्ती में शिद्दत भी है। संजय शुक्ला के साथ सद्दाम कंधे से कन्धा मिलाकर चल रहे है, खुरासान पठान भी लोगो को फोन से जोड़ने का काम कर रहे है। 40 साल से जिस पार्टी का झंडा उठाया अब उसी उसे छोड़कर हिन्दू मुस्लिम कर रही राजनीति को पठान परिवार और शुक्ला परिवार ने दोस्ती और मोहब्बत का नया सबक सिखया है।

छोटे चुनावों में बड़ी जुबानी जंग…


नाली गटर के छोटे चुनाव में अब बड़ी जुबानी जंग शुरू हो चुकी है। अब हमारे रहबर हमें दुश्मनी का नया सबक सिखा रहे है और मंच से ही अपने बड़े नेताओं के साथ अपनी दुश्मनी की सारी हदें पार कर रहे है। रहबरों का ये अन्दाज़ अवाम को क्या सबक सिखाएगा और इसका लोगों पर असर पड़ेगा, ये तो वक्त ही बताएगा। इसी पर एक शेर बहुत ही मशहूर है, दुश्मनी जम के करो लेकिन ये गुंजाइश रक्खो दोस्ती हो फिर शर्मिंदा ना होना पड़े।

मुस्लिम वार्डो में खनक रही चूड़ियां…
मतदाता इन चूड़ियों को कितना तस्लीम करते है ये 17 जुलाई को पता चलेगा। फौज़िया शेख अलीम के चुनाव में पहली बार वोट डाल रही मुस्लिम लड़कियों को फौजिया प्रभावित कर रही है। निगम में नेता विपक्ष के किरदार की अदाएगी इन बच्चियों को प्रेरणा दे रही है। आज़ाद नगर में महिलाओं की लाइब्रेरी और उम्दा सेहत सेंटर भी फौजिया के लिए अपील कर रहा है। वही खजराना में रूबीना इक़बाल की चूड़ियां भी खूब बिक रही है। लेकिन उनकी दुकान बद इन्तेज़ामी का शिकार है। जन सहयोग, घर के ठेकेदार, डरना धमकाने को लेकर जहां कई वार्डो से उन्हें भगाया जा रहा है। रानीपुरा वार्ड में अंसाफ का सुनेहरा सपना है कि वो फिर पार्षद बने यहां यास्मीन मुन्ना अंसारी मज़बूती से उनके सपने खलल डालने की कोशिश कर रही है। मतदाताओं की फजीहत ये है कि यास्मीन और सुनहरा की चूड़ियों का रंग फीका करने के लिए श्रीमती पिपले ने सख्त मोर्चाबंदी कर रखी है। जरा भी चूक होती है तो कांग्रेस आकाश से ज़मीन पर आ गिरेगी।

दुमछल्ला
आठ से नौ दो ग्यारह…
जूना रिसाला वार्ड में रुखसाना अनवर दस्तक चुनावी जंग में कूदी है। इससे पहले अनवर दो बार यहां पार्षद रहे है। मज़बूत टीम नेटवर्क और मतदाताओं से करीबी रिश्ते उनके काम आ रहे है। मतदान से पहले बागियो को मनाने में कामयाब हो गए है। कई विरोधी वार्ड से नो दो ग्यारह हो चुके है जो अनवर की राह आसान बना रहे है। इलाके के दो बड़े नाम भी अब विरोध में नही रहे। यही वजह है कि अनवर के खेमे में राहत की हवा बह रही है।
-9977862299

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.