अब छोटी बचत पर भी मार, ब्याज दरों में कटौती शुरू

आरबीआई की नई मौद्रिक नीति से ब्याज दरें दहाई अंक जाएगी

नई दिल्ली (ब्यूरो)। रिजर्व बैंक अगले दो दिनों में अपनी मौद्रिक नीति की समीक्षा के बाद एक साथ ब्याज दरों में बड़ी वृद्धि करने जा रही है। इसका असर अब होम लोन से लेकर सभी लोन पर दिखाई देगा। दूसरी ओर बैंकों में जमा छोटी बचत पर भी अब ब्याज में कटौती शुरू हो गई है। इससे छोटी बचतों में पैसा जमा करने वालों को नुकसान होगा। पोस्ट आफिस ने भी अपनी ब्याज दरें कल से घटा दी है। वहीं दूसरी ओर केन्द्र सरकार के महंगाई कम करने के लिए किए गए प्रयास भी अब थक गए हैं। जहां महंगाई दर 9 प्रतिशत पर बनी हुई है वहीं भारत की विकास दर चार प्रतिशत बने रहने के कारण इससे न तो रोजगार बढ़ेंगे और न ही शेयर बाजार में विदेशी निवेशक पैसा लगाएंगे।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की कल से शुरू हो रही बैठक में एक बार फिर बैंकों की ब्याज दरों में इजाफा किया जा रहा है। इसके कारण लम्बे समय बाद ब्याज दरें दहाई अंक में पहुंचेगी। रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति पर बैठक आज से 8 जून तक चलेगी। 8 जून को मानिटरी पॉलिसी के निर्णय का ऐलान होगा इससे पहले 4 जून को भी 40 बैसिस पाइंट की ब्याज दरों में वृद्धि की गई थी। 60 बैसिस पाइंट की और वृद्धि होगी। अब इसी के साथ ही जिन लोगों ने पहले से लोन लिए हैं उनकी मासिक किस्त (ईएमआई) पर इसका बड़ा असर दिखेगा। दूसरी ओर रिजर्व बैंक की ही रिपोर्ट में माना गया है कि भारत में महंगाई 9 प्रतिशत से ज्यादा बनी हुई है, जबकि यह सहनीय स्थिति में अधिकतम 6 प्रतिशत होनी चाहिए। इधर विकास दर जब तक 9 से 10 प्रतिशत नहीं होगी तब तक देश की एक तिहाई आबादी यानी 35 करोड़ लोगों की आय नहीं बढ़ेगी और इसी के कारण देश में उत्पादन भी नहीं बढ़ेगा, क्योंकि लोगों के खरीदने की क्षमता समाप्त होती जा रही है।

बैठक शुरू होते ही सेंसेक्स 400 अंक टूटा
ग्लोबल मार्केट में दबाव के बीच आज घरेलू बाजार लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं। हफ्ते के पहले कारोबारी दिन दोनों इंडेक्स ने बिकवाली के साथ कारोबार की शुरुआत की है। 400 अंकों की गिरावट के साथ सेंसेक्स 55,676.76 के लेवल पर ट्रेड कर रहा है। इसके अलावा निफ्टी इंडेक्स 16.85 अंकों की मामूली गिरावट के साथ 16,567.45 के लेवल पर ट्रेड कर रहा है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.