महानगर को मिलेगी वंदे भारत ट्रेन की सौगात

योजना में इंदौर भी शामिल, मुंबई और दिल्ली से होगी सीधी कनेक्टिविटी

इंदौर। महानगर को जल्द ही वंदे भारत ट्रेन की सौगात मिलने जा रही है। केंद्र सरकार व्दारा पूरे देश को इस ट्रेन से कवर करने की जो योजना बनाई जा रही है, उसमें इंदौर भी शामिल है। यह सौगात मिलने के बाद मुंबई और दिल्ली से इंदौर की सीधी कनेक्टिविटी हो जाएगी।
देखा जाए तो १८० किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली वंदे भारत ट्रेन इंदौर से चलेगी या नहीं, इस पर असमंजस खत्म हो चुका है। इंदौर सांसद शंकर ललवानी ने स्वयं योजना में इंदौर के शामिल होने की पुष्टि कर दी है। इतना ही नहीं विगत दिनों रेलवे जीम अनिल कुमार लाहोटी ने भी इंदौर दौरे के दौरान इस ट्रेन को चलाए जाने के संकेत दिए थे। इधर, केन्द्रीय बजट में भी वित्त मंत्री ने अगले तीन वर्षों में देशभर में ३०० वंदे भारत ट्रेन चलाए जाने की घोषणा की है। इनमेें पहले वर्ष १०० ट्रेनें चलाई जाएंगी, जिनमें इंदौर भी शामिल है। हालाकि इंदौर से वंदे भारत ट्रेन की शुरूआत होने में लगभग एक साल का समय लग सकता है।
इंदौर-देवास-उज्जैन ट्रेक दोहरीकरण केबाद हो सकती है शुरूआत
रेलवे विभाग से जुड़े सूत्रों के अनुसार, वंदे भारत ट्रेन की गति चूंकि १८० किलोमीटर प्रति घंटे है, इस वजह से ट्रेक का होना भी जरूरी है। बताया जा रहा है कि इंदौर-देवास-उज्जैन ट्रेक का दोहरीकरण हो रहा है और इस ट्रेक की क्षमता ११० से १२० किलोमीटर प्रति घंटा होगी। इस काम में एक साल का समय लग सकता है। इस दृष्टि से यह ट्रेक इस ट्रेन के लिए माकूल होगा। इस पर वंदे भारत ट्रेन १३० से १४० किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकेगी। रतलाम से इस ट्रेन को और अधिक स्पीड का ट्रेक मिल सकता है।
मुंबई-दिल्ली रूट पर चलाए जाने का है प्रस्ताव
देखा जाए तो इंदौर से मुंबई और दिल्ली रूट पर वंदे भारत ट्रेन की ज्यादा डिमांड ज्यादा है। दोनो ही बड़े शहरों में इंदौर की कनेक्टिविटी जरूरी भी है। इससे इंदौर से इन दो शहरों को जाने वाले या$ित्रयों को ए क्लास की सुविधा प्राप्त होगी। इंदौर सांसद शंकर लालवानी ने रेलवे को जो प्रस्ताव भेजा है, उसमें मुंबई-दिल्ली शामिल है।
नेताजी का कहना है…
वंदे भारत ट्रेन योजना में इंदौर का नाम शामिल है । हमने इंदौर से दिल्ली और मुंबई के लिए ट्रेन का प्रस्ताव दिया था, जिसे सरकार ने इस योजना में शामिल किया है। अभी कोच निर्माण का काम चल रहा है। कोरोना के कारण यह काम कुछ बाधित जरूर हुआ है, लेकिन अब इस काम ने रफ्तार पकड़ ली है। तीन कंपनियां कोच बनाने का काम कर रही हैं और संभवत: एक साल में इंदौर को वंदे भारत ट्रेन की सौगात मिल सकती है।
क्या-क्या सुविधाएं हैं वंदे भारत ट्रेन में
यहां यह प्रासंगिक है कि इंजन रहित वंदे भारत ट्रेन में आटोमेटिक दरवाजे हैं। एसी कोच होने के साथ ही इसमें रिवाल्विंग चेयर है। टिकट में ही चाय-नाश्ते एवं भोजन की सुविधा शामिल है। आने वाले स्टेशनों की सूचना के प्रसारण की व्यवस्था के साथ ही टच फ्री बाथरूम, सीसीटीवी एवं माड्यूलर रैक, भोजन को ठंडा व गर्म करने की सुविधा के अतिरिक्त चार्जिंग साकेट की सुविधा भी प्राप्त होगी।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.