कड़ी चौकसी के बीच ज्ञानवापी परिसर में सर्वे शुरू

51 अधिकारियों की टीम जुटी, सच जल्द सामने आएगा, आम लोगों के लिए रास्ता बंद

वाराणसी। वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर का सच सामने लाने के लिए अदालत के आदेश पर सभी पक्षों की मौजूदगी में सर्वे की कार्यवाही शुरू हो गई है। इस कार्रवाई में 51 अधिकारियों की टीम जांच में जुट गई है।
पूरे परिसर की वीडियोग्राफी के लिए विशेष कैमरा और लाइट की व्यवस्था की गई है। ज्ञानवापी परिसर के आसपास जबरदस्त सुरक्षा व्यवस्था है। मैदागिन और गोदौलिया की ओर से ज्ञानवापी जाने वाले रास्ते को आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया है। बाबा के भक्तों को गेट नंबर एक से मंदिर में प्रवेश दिलाया जा रहा है। काशी विश्वनाथ धाम क्षेत्र छावनी में तब्दील है। अधिवक्ता आयुक्त अजय मिश्रा के साथ वादी-प्रतिवादी पक्ष के लोग गेट नंबर चार से परिसर में पहुंचे। बताया जा रहा है कि कमीशन की कार्यवाही ज्ञानवापी मस्जिद के पश्चिमी हिस्से से शुरू हुई है। नमाजस्थल और तहखाने का ताला खोलकर कमीशन की कार्यवाही होगी। कमीशन की कार्यवाही में अवरोध करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सख्त विधिक कार्रवाई की जाएगी।
सर्वे में वादी-प्रतिवादी पक्ष, दोनों पक्ष के अधिवक्ता, एडवोकेट कमिश्नर और उनकी टीम, डीजीसी सिविल और उनकी टीम, विश्वनाथ मंदिर की टीम और पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों की टीम (कुल 51) शामिल हैं। 14 और लोग बाहर रिजर्व हैं, वे किसी भी परिस्थिति में आवश्यकता पड़ने पर अधिवक्ता आयुक्त के आदेश पर बुलाए जाएंगे।
मीडिया को प्रवेश नहीं
अदालत ने सर्वे कराने की जिम्मेदारी एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्र को सौंपी है। उनके साथ विशेष कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह और सहायक कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह भी हैं। मीडिया को ज्ञानवापी परिसर और मुख्य द्वार से लगभग एक किलोमीटर दूर ही रोक दिया गया है। ज्ञानवापी मस्जिद की वीडियोग्राफी सर्वे की कार्रवाई सुबह 8 बजे शुरू हुई और 12 बजे तक होगी।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.