खाद्य तेल की कीमतों में अगले 15 दिनों में लगेगी आग

20 रुपए प्रति लीटर तक महंगे होंगे, सरकार टैक्स में तुरंत राहत दे तो ही भाव स्थिर हो सकते हैं

नई दिल्ली (ब्यूरो)। इंडोनेशिया में पाम तेल के निर्यात पर लगी रोक का असर बाजार में दिखाई देने लगा है। आज से ही देशभर में खाद्य तेलों की कीमतें बढ़ना शुरू हो गई है। माना जा रहा है कि अगले 15 दिनों में तेलों की कीमतों में 20 रुपए तक की वृद्धि दिखाई देेने लगेगी। दूसरी ओर यदि सरकार चाहेगी तो टैक्स में बड़ी छूट देकर कीमतों को यहीं पर रोक सकती है। भारत इंडोनेशिया से 140 लाख टन पॉम तेल का आयात करता है, जो अब रुक गया है। पॉम की कमी के चलते और भी कई सामान पर इसका असर तेजी से दिखाई देगा।
भारत में आने वाले समय में खाद्य तेलों को लेकर बाजार में अभी से स्टाक का खेल शुरू हो गया है। इंडोनेशिया से 60 प्रतिशत तेल का आयात होता था, जो सोयाबीन, मूंगफली और अन्य तेलों में मिलाया जाता था। अब पाम तेल का आयात रुकने के बाद अन्य देशों से सनफ्लावर और कनोला का तेल आयात किया जा सकता है, परंतु अभी इस पर 35 से 45 प्रतिशत तक टैक्स सरकार ले रही है। यदि सरकार इसे घटाकर 5 प्रतिशत कर देगी तो ही तेल की कीमतें स्थिर रह पाएंगी। हालांकि जानकार कह रहे हैं कि सरकार अपना राजस्व कम नहीं होने देगी। इसके चलते आने वाले दिनों में सोयाबीन का तेल 175 से 180 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच जाएगा तो वहीं मूंगफली का तेल 215 रुपए तक होगा। इधर सरसों के तेल की कीमतें भी 200 रुपए को पार कर चुकी रहेंगी। दूसरी ओर पाम तेल से बनने वाले कई सामान पर भी इसका असर बाजार में दिखाई देने लगेगा। इसके दो कारण हैं आने वाले एक सप्ताह में देशभर में 40 लाख से अधिक शादियों के अलावा पर्यटन भी अब पूरी तरह खुल चुका है, इसके कारण भी खपत पर असर रहेगा, जो बाजार में तेजी से और महंगाई बढ़ाएगा। भारत अभी अगले 15 सालों तक तेल के मामले में आत्मनिर्भर नहीं हो पाएगा। अभी भी केवल 40 प्रतिशत ही खपत का उत्पादन हो पाता है।

ये कंपनियां फिर कीमत बढ़ाएंगी

हिंदुस्तान यूनीलिवर : हर साल १० लाख टन कच्चे पाम तेल का इस्तेमाल उत्पादों में करती है। कंपनी साबुन, शैंपू, क्रीम, फेसवॉश सहित दर्जनों कॉस्मेटिक उत्पाद बनाती है।
नेस्ले : किटकैट चॉकलेट बनाने वाली कंपनी ने २०२० में ४.५३ लाख टन पाम तेल इंडोनेशिया से खरीदा था।
प्रॉक्टर एंड गैंबल : कंपनी ने २०२०-२१ में ६.०५ लाख टन पाम तेल इंडोनेशिया से खरीदा था। ज्यादतर का इस्तेमाल होम केयर एवं सौंदर्य प्रसाधन के उत्पाद बनाने में किया गया।
मॉन्डलेज इंटरनेशनल : ओरियो बिस्कुट बनाने वाली कंपनी भी अपने उत्पादों में इस्तेमाल करने के लिए भारी मात्रा में पाम तेल खरीदती है।
लॉरियल : कंपनी अपने उत्पादों में पाम तेल का इस्तेमाल करती है। इसने २०२१ में अपने उत्पादों में ३१० टन पाम तेल का इस्तेमाल किया।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.