गुस्ताखी माफ -ताई के हलवे में नहा गए शिवजी…कई नेताओं ने कन्नी काटी…चिराग नहीं जले शिवराज के सामने…

ताई के हलवे में नहा गए शिवजी…
मुख्यमंत्री के इंदौर कार्यक्रम के दौरान ताई के निवास पर जाने की कोई जानकारी नहीं दी गई थी। फिर अचानक ताई के निवास पर जाकर एकांत चर्चा और शुद्ध घी का हलवा खाना और इसके बाद अपने घर बांधकर ले जाना यह लोगों को समझ नहीं आ रहा है। कयास लगाने वाले पार्टी के लोग कह रहे शिवजी ने दूरदृष्टि से दिल्ली में क्या होने वाला है इसे देखा होगा। वरना इसके पहले तो वे कई बार ताई के सांसद पद से हट जाने के बाद आ चुके हैं। सबसे बड़ी बात जब ताई को पद्मश्री मिली थी, तो उन्होंने फोन भी नहीं लगाया, जबकि देशभर के नेताओं के फोन आए थे। लगता है दिल्ली में ताई को निमंत्रण 4-6 से महीने में आने वाला है। इसकी खुशबू हलवे की खुशबू के साथ उन्हें मिल गई होगी। एक ओर कारण भी हो सकता है कि उन्होंने यह जानकारी लेने की कोशिश की होगी, कि ताई सबके पुत्र राजनीति में आ गए है और सबकी जमावट भी हो गई है। लगभग हर बड़ा नेता मेरे सहित पुत्रों की लाचिंग में व्यस्त है। फिर आपके पास तो होनहार पुत्र है। इन्हें राजनीति में क्यों नहीं ला रही हो? बंद कमरे की बातचीत में इससे ज्यादा और क्या हो सकता है। अब कभी हलवा खाने को मिलेगा, तो बाकी जानकारी मिल सकती है।
कई नेताओं ने कन्नी काटी…
‘धन्यवाद इंदौरÓ सांसद शंकर लालवानी द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम था, इसमें मुख्यमंत्री ने भी शिरकत की थी। इस कार्यक्रम में शहर के कई नेताओं ने अपनी दूरी बनाकर यह सिद्ध कर दिया कि वे सांसद के साथ तालमेल नहीं बैठा पा रहे हैं। खेल प्रशाल में आयोजित इस कार्यक्रम में मंत्री उषा ठाकुर, आकाश विजयवर्गीय, कृष्णमुरारी मोघे सहित कई नेता नहीं पहुंचे थे। इसके अलावा प्रभारी मंत्री का आगमन भी इस कार्यक्रम में नहीं हुआ। यह कार्यक्रम पूरी तरह सांसद के नंबर बढ़ाने को लेकर आयोजित था और इसीलिए ेदूसरे नेताओं ने दूरी बनाकर रखी पर पेलवान वहां पर मौजूद रहे, वे भी इसलिए रहे कि उनके द्वारा किए कार्यों के बारे में भी जानकारी देना थी। जो भी हो, शहर में सांसद और विधायकों के बीच अब दूरी धीरे-धीरे दिखाई देने लगी है।
चिराग नहीं जले शिवराज के सामने…
कल मुख्यमंत्री इंदौर में धन्यवाद इंदौर सहित कई कार्यक्रमों में मौजूद रहे। दूसरी ओर इस दौरान ताजे-ताजे बने भाजपाई यानी ज्योति बाबू के चिराग इन कार्यक्रमों से दूर ही रहे। इस मामले में पूछने पर कहा गया कि अपने तो मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री सब बड़े साहब ही हैं, अपनी पार्टी भी वे ही हैं। अकेले पेलवान ही परचम लहराते रहते हैं, जो हम सबका नेतृत्व कर ही रहे हैं। बाकी की फिलहाल कोई जरूरत नहीं है।
और अंत में…
7 जुलाई को इंदौर के प्रभारी मंत्री नरोत्तम मिश्रा के इंदौर आगमन पर कैलाश विजयवर्गीय के साथ उनकी जुगलबंदी देखने को बिना टिकिट मिल सकती है।
-9826667063

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.