Night Culture Indore : डेढ़ माह बाद भी अन्य बाजार नहीं खुल रहे

दूरस्थ क्षेत्रों से आने लगे लोग, नए कलेक्टर के समक्ष रखेंगे मांग

night culture indore

इंदौर Night Culture Indore । जिला प्रशासन ने डेढ़ माह पहले नाइट कल्चर में देररात तक दुकानें खोलने की अनुमति दी थी। इसके बाद अन्य बाजार क्षेत्रों से मांग उठी थी कि उन्हें भी रात में कारोबार करने के आदेश दिए जाएं। व्यापारी इसे लेकर पूर्व कलेक्टर मनीषसिंह से मिले थे, लेकिन उन्हें आश्वासन दिया था कि वे व्यापारी वर्ग को लेकर उचित निर्णय लेंगे।

मनीषसिंह के स्थानांतरण के बाद व्यापारियों की मांग अधूरी रह गई। अब एक बार फिर सराफा, 56 दुकान व अन्य क्षेत्रों के व्यापारी मांग को लेकर नवागत कलेक्टर इलैया राजा से मिलेंगे।

Also Read – निगम चुनाव में व्यस्त रहे इसलिए दिनेश पांडे का चुनाव हारे गए!

सराफा में चाट चौपाटी लगाने वाले एक व्यापारी ने बताया कि नाइट कल्चर में साढ़े 11 किलोमीटर लंबे बीआरटीएस मार्ग के 100 मीटर के दायरे में सभी दुकानें देररात से अलसुबह तक खुल रही है। नाइट कल्चर को लेकर प्रशासन के आदेश का मौन विरोध भी हुआ था, लेकिन नाइट में दुकानें खुलने के बाद विरोध करने वालों ने चुप्पी साध ली। नाइट कल्चर में कुछ मामलों को छोड़ शेष बेहतर कारोबार चल रहा है।

सराफा की चाट चौपाटी रोजाना 12 बजे तक खुली रहती है। कई लोग रात 11.45 बजे आते हैं, जो दुकानें बंद होने से कई बार बगैर नाश्ता किए लौट जाते हैं। यही स्थिति 56 दुकान की भी है।

यहां सुबह से लेकर रात तक चाट-नाश्ता का लुत्फ उठाने वाले आते हैं। व्यापारियों ने बताया कि डेढ़ माह से नाइट कल्चर में अनुमति मिलने का इंतजार रहे थे। हर बार प्रशासन से आश्वासन मिला, लेकिन अनुमति नहीं मिल सकी। नवागत कलेक्टर का स्वागत करने के बाद उनसे मांग की जाएगी कि नाइट कल्चर में उन्हें भी नियमानुसार अनुमति दी जाए। Night Culture Indore 

सराफा और 56 बाजार में देररात तक लोग नाश्ता करने आते हैं। गांधीनगर व अन्य दुरुस्त स्थानों के लोगों को 5 से 7 किलोमीटर दूर आकर नाश्ता करने पर मजबूर है। कई बार तो युवा वर्ग यहां तक आता ही नहीं है। नाइट कल्चर में सराफा और 56 दुकानें खुलने से बाहरी क्षेत्रों से आने वाले युवाओं को भी लाभ मिल सकेगा।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.