पाकिस्तान में राष्ट्रीय आपातकाल

बाढ़ से 1000 मरे, कई राज्य जलमग्न

इस्लामाबाद: भारी बारिश के चलते बाढ़ के हालात बनने के बीच खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के कई जिलों में तत्काल प्रभाव से आपातकाल की घोषणा की गई जोकि 30 अगस्त तक प्रभावी रहेगा। आपदा प्रबंधन अधिकारियों द्वारा स्वात नदी के उफान पर पहुंचने के संबंध में आगाह किए जाने के बाद यह निर्णय लिया गया। सिंध के 23 जिलों को आपदा प्रभावित घोषित किया गया है।

पाकिस्तान में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ में अब तक 343 बच्चों समेत 1000 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि कम से कम तीन करोड़ लोगों के बेघर होने की सूचना है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के अनुसार, सिंध प्रांत में 14 जून से बृहस्पतिवार तक बाढ़ और बारिश से संबंधित घटनाओं में 306 लोगों की जान जा चुकी है। मानसून के मौजूदा मौसम में बलूचिस्तान में 234 लोगों की मौत हुई, जबकि खैबर पख्तूनख्वा तथा पंजाब प्रांत में क्रमश: 185 और 165 लोगों की जान चली गई। वहीं पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 37 और गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में नौ लोगों की मौत हुई है। इस मानसून में सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र सिंध और बलूचिस्तान में क्रमश: 784 प्रतिशत और 496 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।

तीन अरब डॉलर की सहायता

वित्तिय संकट से लड़ रहे पाकिस्तान को सऊदी अरब ने दो अरब डॉलर और कतर ने एक अरब डॉलर की आर्थिक सहायता निवेश के रूप में दी है। इसके अलावा यूएई ने भी एक अरब डॉलर की मदद देने का ऐलान किया है। दूसरी ओर सऊदी अरब ने लंबी अवधि पर कच्चा तेल देने का समझौता भी किया है। इसके बाद पाक को आईएमएफ से कर्ज मिलने की राह आसान हो जाएगी।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.