मिट्टी के गणेश की कीमतें 30 प्रतिशत तक बढ़ी

धड़ल्ले से बन रही गणेशजी की पीओपी की प्रतिमाएं

इंदौर। प्रशासन के प्रतिबंध के बावजूद शहर में भगवान गणेश की मूर्तियां प्लास्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) से तैयार की जा रही है। कम कीमत में तैयार होने के कारण मूर्तिकार प्रशासन के आदेश का पालन नहीं कर रहे हैं।

उधर प्रशासन सिर्फ आदेश जारी कर इतिश्री कर ली है। पीओपी की मूर्ति पर बिक्री से पहले निर्माण को लेकर कार्रवाई की कोई तैयारी नहीं की गई है, जिससे ग्रीन गणेश फार्मूला फैल हो रहा है।
गणेश चतुर्थी के लिए शहर में पर्यावरण अनुकूल मूर्तियों से पांच गुना अधिक प्लास्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) से तैयार की जा रही है। शहर में प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी मूर्तियों के निर्माण और बिक्री पर प्रतिबंध के संबंध में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत जारी आदेश को प्रभावी ढंग से लागू करने में विफल रहने का मुख्य कारण संबंधित अधिकारियों की उदासीनता को बताया जा रहा है। इसके चलते प्रशासन की ग्रीन गणेशेेेेेेेेेेेेे उत्सव का फार्मूला फैल होता दिख रहा है। इन दिनों मूर्ति निर्माता प्लास्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) की मूर्तियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। शहर में गणेश प्रतिमा निर्माताओं ने लगभग 60 प्रतिशत मूर्तियां पीओपी और सिंथेटिक चित्रित मूर्तियों से बनाई है।

दरअसल, गणेशोत्सव और अन्य त्योहारों पर कई मूर्तिकार प्लास्टर आफ पेरिस (पीओपी) और अन्य रासायनिक वस्तुओं से मूर्तियां बनाते हैं और श्रद्धालु नदी-तालाब और अन्य जल स्रोतों में इनका विसर्जन करते हैं। इससे जल प्रदूषण बढ़ता है।

प्रशासन ने यह आदेश किया था जारी

कलेक्टर मनीष सिंह ने पीओपी की मूर्तियों के निर्माण और विसर्जन पर रोक लगा दी है। दंड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 के तहत यह आदेश राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) द्वारा दिए निर्देशों के अनुपालन में जारी किया गया है। आदेश के अनुसार मूर्तियों या प्रतिमाओं के निर्माण में पवित्र ग्रंथों में उल्लेखित प्राकृतिक सामग्री या परंपरागत मिट्टी का ही उपयोग किया जाएगा। पकी हुई मिट्टी, पीओपी या किसी प्रकार के केमिकल का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा। मूर्तियों/प्रतिमाओं पर केवल प्राकृतिक व गैर विषाक्त रंग ही इस्तेमाल किए जाएंगे। किसी भी प्रकार के रासायनिक व विषाक्त रंगों का इस्तेमाल पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा।

इनका कहना है …

सीआरपीसी की धारा 144 के तहत पीओपी मूर्तियों के निर्माण, बिक्री, खरीद और विसर्जन पर प्रतिबंध लागू किया गया है, जिसे आने वाले दिनों में सख्ती से लागू किया जाएगा। पीओपी की मूर्ति जब्त करने के लिए शीघ्र ही टीम रवाना की जाएगी।

-पवन जैन, एडीएम

 

महंगाई से महंगे हुए गणेश

इस वर्ष गणेश प्रतिमाओं की कीमत में भी बढ़ी हुई है। मूर्ति विक्रेताओं ने बताया कि पौने तीन फीट तक की मूर्ति 51 सौ और पांच हजार रुपये में मिलेगी। यही प्रतिमाए पहले 35 सौ से लेकर 38 सौ तक मिलती थी। एक इंच की सबसे छोटी प्रतिमा जहां पहले सौ रुपये तक मिलती थी, वह अब डेढ़ सौ रुपए में मिलेगी। वहीं इस बार सबसे छोटी गणेश प्रतिमा की कीमत 51 रुपए बताई जा रही है। बावजूद इसके कोरोना खत्म होने के कारण गणेश उत्सव धूम धाम से मनाने के लिए लोग तैयारी कर रहे हंै।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.