35 मंजिला हाईराइज बिल्डिंग में तैयार होगा स्टार्टअप पार्क

अंतरराष्ट्रीय मानकों के लिए ग्लोबल टेंडर, जल्द शुरू होगा पार्क का काम

इंदौर। सुपर कॉरिडोर पर स्टार्टअप पार्क के लिए आरक्षित 20 एकड़ जमीन पर इंदौर विकास प्राधिकरण ने 35 मंजिला हाईराइज बिल्डिंग बनाने का फैसला लिया है। इसके लिए कंसल्टेंसी फर्म से सुझाव लेकर ग्लोबल टेंडर जारी किए है। 450 करोड़ के इस प्रजेक्ट पर एक महीने में काम शुरू कर दिया जाएगा।
स्टार्टअप नीति एवं कार्यान्वयन योजना 2022 में शामिल मध्य प्रदेश का पहला स्टार्टअप पार्क इंदौर में बनेगा। इसकी 35 मंजिला इमारत बनाने पर 450 करोड़ रुपए की लागत आएगी। सुपर कारिडोर पर बरदरी गांव में इंदौर विकास प्राधिकरण की जमीन पर यह पार्क आकार लेगा।
इसकी योजना बनाने के लिए आईडीए ने अंतरराष्ट्रीय स्तर के सलाहकार को बुलाया है और टेंडर भी जारी कर दिए गए हैं। एक महीने में पहली हाईराइज बिल्डिंग का काम शुरू कर किया जाएगा। स्टार्टअप पार्क अंतरराष्ट्रीय मानकों का होगा। इसीलिए पार्क का मास्टर प्लान और डिजाइन तैयार करने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गुणवत्तायुक्त कार्य करने वाले सलाहकार को ही बुलाया गया है। इसमें दुबई, सिंगापुर, यूरोप कहीं से भी सलाहकार आ सकते हैं।
प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी विवेक श्रोत्रिय ने बताया कि स्टार्टअप पार्क की प्लानिंग पर विचार करने के लिए यूनिवर्सिटी आफ मैनचेस्टर के प्रोफेसर बोरिस से चर्चा की है। स्टार्टअप पार्क में आईडीए फिलहाल एक बहुमंजिला इमारत बना रहा है। जरूरत पड़ने पर ऐसी पांच-छह इमारतें और बनाई जा सकेंगी। इन सबकी मास्टर प्लानिंग एक साथ की जा रही है। इन इमारतों को आपस में आंतरिक रूप से जोड़ा भी जाएगा।
अलग-अलग कार्यालयों के अलावा कन्वेंशन सेंटर, इंक्यूबेशन सेंटर, फाइव स्टार होटल के साथ ही प्रयोगशालाएं, शोरूम, ब्रांडेड रिटेल आउटलेट, बैंक, इंटरटेनमेंट जोन, रेस्त्रां, कैफेटेरिया की सुविधाएं भी होंगी। आईडीए अध्यक्ष जयपालसिंह चावड़ा ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की मंशा के अनुरूप यह स्टार्टअप पार्क तैयार किया जाएगा। यह पार्क राज्य की स्टार्टअप नीति का प्रतिबिंब होगा। युवाओं को रोजगार देने के उद्देश्य से इस तरह की योजना शुरू की गई है।
स्टार्टअप को लेकर शासन और प्रशासन स्तर पर कई दिनों से तैयारीयां की जा रही है। शीघ्र ही स्टार्टअप को शुरू करने की कवायद चल रही है। पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने स्टार्टअप को लेकर युवाओं और उघोगपतियों से अलग-अलग बात की थी, जिसमें स्टार्टअप को लेकर सहमति बन गई थी।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.