गृहमंत्री का स्टाफ ही उड़ा रहा उनके आदेशों की खुलेआम धज्जियां

पुलिस कमिश्नरी लागू होने के बावजूद धोखाधड़ी का गोरखधंधा चरम पर

इन्दौर। महानगर में पुलिस की सांठगांठ से धोखाधड़ी का धंधा चरम पर है। मजेदार बात तो यह है कि गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सीनियर सिटीजन की देखभाल एवं उनके प्रकरणों को जल्द से जल्द निपटारा करने के निर्देशों की भी खुलेआम अवहेलना की जा रही है। महानगर में पुलिस कमिश्ररी लागू होने के बावजूद इंदौर की पुलिस अस्पताल में भर्ती सीनियर सिटीजन जगन्नाथ ठाकुर की सुनवाई नहीं कर रही है। हालात इतने संगीन है कि धोखाधड़ी करने वाले पुलिस को भी अपनी जेब में रखने का दावा कर रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों गृहमंत्री ने सीनियर सिटीजन की देखभाल और उनके प्रकरणों को जल्द से जल्द गंभीरता पूर्वक निपटाने के आदेश दिये थे। बावजूद इसके, इन आदेशों की हवाइयां खुलेआम आजाद नगर टीआई इंद्रेश त्रिपाठी और उनका स्टाफ उड़ा रहा है। फरियादी पुलिस की कार्रवाई नहीं करने से इतने परेशान हो चुके हैं कि अब उन्होंने सप्रमाण शिकायत मुख्यमंत्री तक कर दी है। इंदौर में एक अपराधी ऐसा है जो इंदौर ही नहीं बल्कि भोपाल-राजगढ़-देवास सहित अन्य कई जिलों में अपनी लूट खसोट की दुकान चलाने के साथ ही एक दर्जन से भी ज्यादा अपराधों को अंजाम दिया है। ओम दांगी नामक अपराधी सबसे ज्यादा सीनियर सिटीजन को ही निशाना बनाता है, जिसके कारण आज भी कई बुजुर्ग पुलिस की नाकामियों की कहानी बयां करते हुए नजर आ रहे हैं। इतने अपराध होने के बावजूद भी ओम दांगी पर कोई कार्रवाई का नहीं होना निश्चित ही पुलिसिया कार्रवाई पर प्रश्नचिन्ह लगाता है।
आखिर क्या है मामला?, एफआईआर दर्ज होने के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई
12 मार्च 2022 को किराना दुकान संचालित करने वाले जगन्नाथ ठाकुर रोज की तरह ही अपने घर मयूर नगर में बने हनुमान मंदिर में सुबह 11 बजे दर्शन करने जा रहे थे तभी अचानक से वहां पर गुंडा ओम दांगी पहुंच गया और पैसे के लेनदेन को लेकर जमकर इस बुजुर्ग को गाली देने के साथ उनको एक पत्थर से भी मार दिया। जगन्नाथ ठाकुर के बच्चों को जैसे ही इस घटना का पता चला तो उन्होंने तुरंत ही उन्हें सुयश अस्पताल में भर्ती करवा दिया। चोट इतनी गहरी लगी है कि आज भी वह इस सदमे से बाहर नहीं आ पा रहे है । किराना का व्यापार करने वाले जगन्नाथ ठाकुर ने बताया कि आए दिन ओम दांगी पूरा हिसाब होने के बाद भी पैसे मांगने आता था वहीं कई बार तो उसने अपनी पत्नी को भी पैसे मांगने के लिए दुकान पर भेजा था मेरे द्वारा समस्त लेन-देन कई महीनों पूर्व ही समाप्त कर दिया गया था इसके बावजूद भी गलत तरीके से पैसों को हथियाने के लिए आए दिन गाली गलौज करता था। बुजुर्ग जगन्नाथ ठाकुर आज भी उसके द्वारा मारे गए पत्थर की चोट से उबर नहीं पाए हैं और वही उक्त गुंडे ने उन्हें इतना हंसाए कर दिया है कि वह अपनी निजी जिंदगी भी नहीं दे पा रहे हैं पत्थर मारने के बाद भी वहां जान से मारने की धमकी लगातार दे रहा है वही आजाद नगर थाने पर एफ आई आर दर्ज होने के बाद भी ओम दांगी पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.