महू नाका की बजाए फूटी कोठी चौराहे पर फ्लाय ओवर का किया जाएगा निर्माण

कराया जाएगा फिजीबिलिटी सर्वे, खजराना और लवकुशचौराहे के लिए जारी होंगे टेंडर

इंदौर। महानगर के प्रमुख मार्गों के विभिन्न चौराहों पर अस्त-व्यस्त हो रहे यातायात को सुचारू करने के लिए इंदौर विकास प्राधिकरण व्दारा विभिन्न स्थानों पर फ्लाय ओवर का निर्माण किया जा रहा है। इसके चलते फिजिबिलिटी सर्वे के बाद जहां खजराना, लवकुश चौराहा, एयरपोर्ट रोड एवं भंवरकुआ पर फ्लाय ओवर निर्माण कार्य शुरू किए जाने का निर्णय लिया गया है। वहीं, महू नाका चौराहे पर ब्रिज की चौड़ाई और डिजाइन को लेकर मामला उलझने से अब महू नाका की जगह फूटी कोठी चौराहे पर फ्लाय ओवर के निर्माण का निर्णय लिया गया है।

दरअसल, जिस तरह से शहर का विस्तार हो रहा है, वाहनों की संख्या में भी तेजी से वृद्धि हो रही है। इससे रिंग रोड, बायपास, सुपर कारीडोर के चौराहों पर यातायात का दबाव लगातार बढते ही जा रहा है। कुछ चौराहे तो सघन आवासीय क्षेत्रों का हिस्सा भी बन चुके हैं, इसलिए इन व्यस्ततम चौराहों से गुजरने वाले भारी वाहनों को क्रास करने और लोकल ट्रेफिक को सुगम बनाने के लिए फ्लाय ओवर जरूरी है। इसी को देखते हुए आईडी फ्लाय ओवर निर्माण की योजना पर काम कर रहा है। इसके लिए लगभग ३०० करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। अभी सर्वे करवाया गया है, जिसमेें रिंग रोड के चौराहों पर फ्लाय ओवर के निर्माण की आवश्यकता जताई गई है।

आखिर, क्यों जरूरी है फूटी कोठी पर फ्लाय ओवर
रिंग रोड पर तकनीकी रूप से फूटी कोठी खतरनाक चौराहा है। यहां से रोजाना ही सवा लाख वाहन गुजरते हैं। यहां तकनीकी समस्या यह है कि इस चौराहे पर रेती मंडी और गौपुर की ओर से आने वाली सड़क तथा चंदन नगर की ओर से आ रही सड़क सीधे नहीं मिलती। इसके अलावा गोपुर की ओर चौराहे पर घुमाव है। इसलिए यहां भारी वाहनों की संख्या बढने से दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। इधर, पूर्वी क्षेत्र की कालोनियों से भी धार जाने वाले वाहन केसरबाग ब्रिज, गोपुर होकर इसी रिंग रोड से गुजरते हैं। इतना ही नहीं, हवा बंगला, केट रोड, सुदामा नगर, रिग रोड के आसपास बसी स्कीम नं. ७१ व अन्य रहवासी क्षेत्र के लोग भी दो व चार पहिया वाहनों से यहीं से गुजरते हैं। फिर, इस चौराहे पर रेती मंडी व राजेन्द्र नगर की ओर से मुम्बई से धार, रतलाम, उज्जैन व सुपर कारीडोर की ओर जाने वाले भारी वाहनों के साथ ही यात्री वाहन भी गुजरते हैं। इसलिए फूटी कोठी चौराहे पर फ्लाय ओवर एक अनिवार्य आवश्यकता बन गया है।
लवकुशऔर खजराना चौराहे पर बनेगा १४० करोड़ की लागत से फ्लाय ओवर…
इंदौर विकास प्राधिकरण व्दारा लवकुश चौराहे के साथ ही खजराना चौराहे पर भी फिजीबिलिटी सर्वे करवाया जा चुका है। इसके बाद इन दोनो ही चौराहों पर १४० करोड़ रूपए की लागत से फ्लाय ओवर के निर्माण को स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। इसके लिए जल्द ही टैंडर जारी किए जाएंगे। निर्माण एजेंसी मिलते ही इसका निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा। प्राधिकरण से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यदि सब कुछ ठीक रहा तो टैंडर होने के १८ माह में दोनो ही चौराहों पर फ्लाय ओवर का निर्माण हो जाएगा। इससे इन प्रमुख मार्गों के अस्त-व्यस्त यातायात को सुचारू करने में काफी मदद मिलेगी।
महू नाका पर पांच ओर से आता है ट्रेफिक…
देखा जाए तो इंदौर विकास प्राधिकरण व्दारा पहले महू नाका पर फ्लाय ओवर के निर्माण का निर्णय लिया गया था। क्योंकि यहां पर यातायात का भारी दबाव रहता है और यहां पर पांच ओर से ट्रेफिक आता है। इसके लिए फिजीलिटी सर्वे भी करवाया गया, लेकिन सारा मामला फ्लाय ओवर में भुजा की चौड़ाई और डिजाइन को लेकर उलझ गया। यहां शहर की ओर से आने वाले वाहनों की संख्या ज्यादा होती है, जबकि लालबाग की ओर चौड़ाई काफी कम है। इस कारण, लालबाग से एमओजी लाइन भुजा सिक्स लेन बनाने में दिक्कत आएगी। इसके लिए सड़क की चौड़ाई मास्टर प्लान में बढानी होगी और इसमें काफी समय लग सकता है। इसलिए तय किया गया है, कि इस प्रक्रिया के होने के बाद ही इस पर विचार किया जाए। इसके बजाए फूटी कोठी चौराहे पर फ्लाय ओवर की तैयारी की जा रही है और जल्द ही इसके लिए आईडीए व्दारा फिजीबिलिटी सर्वे कराया जाएगा।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.