स्वयं को बाबा साहेब, कबीर और रैदास जैसे लोगों के अनुयायी होने का दिखावा

-अरुण हार्डिया

…वहां पत्थरबाजी हो गई है। अलीगढ़ में हिंदूवादी छात्र भगवा वस्त्र पहन कर या गमछा डाल कर स्कूल-कॉलेज में आने लगे। शिक्षा प्राप्त करने के स्थान पर छात्र-छात्राएं और उनके अभिवावक विद्यालयों और कॉलेजों में अपनी धार्मिक पहचान को अहमियत देने लगे। संत रैदास के मन में विचारों में मनुष मात्र के लिए कल्याण की भावना परिलक्षित होती है। वे इंसानों को जाति और धर्म तथा अमीरी और गरीबी के श्रेणी में बांटने के विरोधी थे। वे सब के कल्याण में विश्वास रखते थे। आजकल चुनाव का माहौल है। यहां बाकायदा जाति और संप्रदाय के समीकरण बनाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री की पार्टी के ही राजनेता जाति के आधार पर अस्सी और बीस का समीकरण बना रहे हैं। वे हिन्दू और हिन्दुत्वादियों के ऐसे समीकरण बना रहे हैं कि मतदाताओं में अस्सी प्रतिशत लोग हिन्दुत्ववादी हैं और उनका वोट उन्हीं को मिलेगा। बाकी बीस प्रतिशत में वे प्रगतिशील और मुसलमानों को मान कर चल रहे हैं। दलितों से जातिगत आधार पर भेदभाव भाजपा की पार्टी में स्पष्ट दिखता है। डिसीजन मेकिंग पॉवर वाले पदों पर दलितों को नहीं रखा जाता। दलितों पर जातिगत अत्याचार होते हैं तब प्रधानमंत्री से लेकर सभी मनुवादी मौन धारण कर लेते हैं। एक शब्द पीड़ितों के पक्ष में नहीं निकलता बल्कि कहना चाहिए कि अत्याचारियों के प्रति उनकी मौन स्वीकृति होती है। उदाहरण के लिए हाथरस और दिल्ली के गुड़िया काण्ड को लिया जा सकता है। रैदास का जन्म काशी में माघ पूर्णिमा दिन रविवार को संवत 1433 को चर्मकार कुल में हुआ था। उनके पिता का नाम रग्घु और माता का नाम घुरविनिया था। उनकी पत्नी का नाम लोना बताया जाता है। रैदास ने साधु-सन्तों की संगति से पर्याप्त व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त किया था। जूते बनाने का काम उनका पैतृक व्यवसाय था और उन्होंने इसे सहर्ष अपनाया।
वे जूते बनाने का काम किया करते थे और ये उनका व्यवसाय था और अपना काम पूरी लगन तथा परिश्रम से करते थे और समय से काम को पूरा करने पर बहुत ध्यान देते थे। संत रामानंद के शिष्य बनकर उन्होंने आध्यात्मिक ज्ञान अर्जित किया। संत रैदास जी ने स्वामी रामानंद जी को कबीर साहेब जी के कहने पर गुरु बनाया था, जबकि उनके वास्तविक आध्यात्मिक गुरु कबीर साहेब ही थे।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने ट्विटर हैंडल पर रैदास जयंती पर एक ट्वीट के साथ जो वीडियो शेयर किया है उसमें दिल्ली के श्री गुरु रविदास विश्राम धाम मंदिर में ‘जपो रैदासÓ भजन पर करताल बजाते हुए नजर आ रहे हैं। कई जगह दलितों का वोट प्राप्त करने के लिए भाजपा के नेता भी रैदास मंदिर में नमन कर रहे हैं।
प्रधानमंत्री जिस पार्टी से हैं उसकी विचारधारा जातिवादी और सम्प्रदायवादी है। वे भले ही सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबके प्रयास की बातें करें लेकिन आज की हक़ीक़त इसके उलट ही कहानी बयान करती है। तभी तो सवाल उठता है कि ऐसे लोग भला रैदास को कैसे नमन कर सकते हैं। कैसे उनकी सोच को अपना सकते हैं। रैदास हमेशा अपने दोहों, अपने भजनों के माध्यम से जाति और संप्रदाय के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। रैदास या रविदास जहां काबा काशी और हिन्दू मुसलमान को एक समान मान रहे हैं, वहीं नफरती और मनुवादी सोच वाले लोग हिजाब के मुद्दे को उठाकर हिन्दू मुसलामानों में नफरत फैलाने का काम कर रहे हैं। कर्नाटक के एक जिले के स्कूल से शुरू होकर पूरे देश में फैलाया गया।
उनकी समयानुपालन की प्रवृति तथा मधुर व्यवहार के कारण उनके सम्पर्क में आने वाले लोग भी बहुत प्रसन्न रहते थे। प्रारम्भ से ही रैदास बहुत परोपकारी तथा दयालु थे और दूसरों की सहायता करना उनका स्वभाव बन गया था। साधु-सन्तों की सहायता करने में उनको विशेष आनन्द मिलता था। वे उन्हें प्राय: मूल्य लिये बिना जूते भेंट कर दिया करते थे। उनके स्वभाव के कारण उनके माता-पिता उनसे अप्रसन्न रहते थे। कुछ समय बाद उन्होंने रैदास तथा उनकी पत्नी को अपने घर से निकाल दिया। रैदास पड़ोस में ही अपने लिए एक अलग इमारत बनाकर तत्परता से अपने व्यवसाय का काम करते थे और शेष समय ईश्वर-भजन तथा साधु-सन्तों के सत्संग में व्यतीत करते थे।दलित समाज की संत परम्परा बहुत प्राचीन रही है। पंद्रहवी सदी में कबीर और रैदास जैसे संत और महापुरुष हमारे गर्व और गौरव हैं। कबीर दास जी ने उस समय में जिस निर्भयता का परिचय देते हुए हिन्दुत्ववादी ताकतों को उनकी कुरीतियों के लिए फटकारा था उसी तरह संत रैदास ने उन सामाजिक विषमताओं, विसंगतियों के खिलाफ आईना दिखाया था।
कथित उच्च जाति का दंभ रखने वाले लोगों और उनके पुरुखों ने सचमुच में ही कबीर और रैदास जैसे लोगों को अपनाया होता। उनकी दिखाई राह पर चलने का प्रण लिया होता तो निश्चित ही स्थिति आज जैसी नहीं होती। अब भी अगर ये लोग स्वयं को बाबा साहेब, कबीर और रैदास जैसे लोगों के अनुयायी होने का दिखावा करना छोड़ दें। और सच में उनके दिखाए मार्ग पर चलें तो निश्चित ही एक बेहतर समाज और बेहतर भारत का निर्माण होगा। पर क्या वे ऐसा करेंगे?

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.