2021 में 20,036 अपराध दर्ज हुए थानों में

पुलिस के लाख प्रयास के बाद भी कम नहीं हुए अपराध...

इंदौर। शहर में अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने वर्ष 2021 में भी लाख प्रयास किए, लेकिन इसके बाद भी अपराधों में कमी नहीं आई है। वहीं अब जब पुलिस कमिश्नरी प्रणाली लागू हो गई है तो उम्मीद की जा रही है कि क्राइम कंट्रोल होगा। वर्ष 2021 में गुंडे बदमाशों पर सतत कार्रवाई के बावजूद वाहन चोरी और डकैती की घटनाओं में बढ़ोतरी दर्ज की गई। हत्या जैसे गंभीर प्रकरण में तीन साल के आंकड़े समान रहे। एक साल में कुल 20036 अपराध दर्ज किए गए। तीन साल के आंकड़े देखें तो वर्ष 2019 में अपराध 16930 थे, जो वर्ष 2021 के अंत तक चार हजार अधिक हो गए।
जिले में 76 हत्या, हत्या के प्रयास 107, डकैती 9, डकैती की तैयारी 44, लूट 57, चेन स्नेचिंग 29, गृहभेदन 731, पशु चोरी 26, सूने घर और प्रतिष्ठानों में चोरी 798, वाहन चोरी 3807, बलवा 63, बलात्कार 388, अपहरण 803 व अन्य 13096 केस दर्ज हुए। इसमें से 90 प्रतिशत प्रकरणों के आरोपियों को पुलिस सलाखों के पीछे धकेल चुके हैं।
ये अनसुलझे मामले : एमवाय की पहली मंजिल से कथित नर्स ने नवजात शिशु चुरा लिया था। मामले में संयोगितागंज पुलिस ने केस दर्ज किया था। महिला आरोपी अब तक गिरफ्तार नहीं हो सकी।
४भंवरकुआ थाना क्षेत्र के पीपल्याहाना क्षेत्र में 18 नवंबर को छह नकाबपोश बदमाशों ने जयप्रकाश वैष्णव के घर डकैती की थी। यहां से बदमाश डेढ़ लाख रुपए लेकर चंपत हो गए थे। आरोपी सवा माह बाद भी फरार हैं।
४सितम्बर माह में विजयनगर थाना क्षेत्र में शराब सिंडीकेट को लेकर ठेकेदार अर्जुन ठाकुर को बदमाशों ने गोली मार दी थी। मामले में कई आरोपी अब तक पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं।
४लसूडिय़ा में चौकीदार तथा खजराना में अधजली महिला की लाश मिली थी। दोनों की अब तक शिनाख्त नहीं हो सकी है।
ये शहर के बड़े मामले : जनवरी माह में क्राइम ब्रांच ने 70 करोड़ की एमडी ड्रग्स के साथ आरोपियों को पकड़ा था।
४अन्नपूर्णा क्षेत्र में बहू ने अपने भाई की मदद से घर में 85 लाख की चोरी कराई थी।
४विजयनगर पुलिस ने 14 बांग्लादेशी लड़कियों को देह व्यापार में पकड़ा था। इसमें से कुछ को वापस बांग्लादेश भेजने की प्रक्रिया की जा रही है।
पुलिस कमिश्नरी के बाद तीन हत्याएं : दिसम्बर माह के दूसरे पखवाड़े में सीएम ने पुलिस कमिश्नरी लागू की। इसके बाद शहर में लगातार दो दिन दो हत्याएं हुई। इसमें एक हत्या लसूडिय़ा और दूसरी परदेशीपुरा थाना क्षेत्र में हुई। वहीं रविवार को भंवरकुआ थाना क्षेत्र में महिला की हत्या उसके प्रेमी ने कर दी।
यह हुए बड़े अपराध : साल-2021 पुलिस के लिए कई मामलों में उपलब्धि भरा रहा तो कुछ मामलों में पुलिस खाली हाथ रही। भरसक कोशिशों के बाद भी आरोपियों की गिरेबां तक पुलिस के हाथ नहीं पहुंच पा रहे हैं। शहर के पांच बड़े अपराध ड्रग्स, जहरीली शराब, लूट, डकैती और देह व्यापार में कई आरोपी अभी भी सलाखों के बाहर हैं।
एमडी ड्रग्स कांड : जनवरी 2021 में क्राइम ब्रांच ने सनावदिया से 70 करोड़ की एमडी ड्रग्स के साथ 8 आरोपियों को पकड़ा था। इन आरोपियों से पूछताछ के बाद कई अन्य आरोपी भी पकड़े गए थे। अब तक मामले में गुजरात, दिल्ली, बेंगलूरु, कोटा, अजमेर, मुंबई, पुणे से 43 आरोपी, जिसमें दो महिलाएं भी शामिल हैं, पकड़ी जा चुकी हैं, वहीं शेष आरोपियों से 3 करोड़ की ड्रग जब्त की है। इस तरह कुल 73 करोड़ की ड्रग पकड़ी है। कुछ आरोपी अभी भी फरार हैं।
अवैध शराब से पांच की मौत : शहर में अवैध शराब पीने से पांच युवकों की मौत हो गई। युवकों ने एरोड्रम थाना क्षेत्र के पैरेडाइज तथा मरीमाता चौराहा स्थित सपना बार में शराब पी थी। यह शराब खरगोन के बदमाश कालका प्रसाद से खरीदी थी। मामले में पुलिस ने दोनों बार संचालकों को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन एरोड्रम पुलिस अब तक कालका प्रसाद को प्रोडक्शन वारंट पर नहीं ला पाई, जिससे कई आरोपी हाथ लगने से बच गए।
बहू ने कराई थी चोरी : अन्नपूर्णा थाना क्षेत्र में बर्तन कारोबारी की बहू ने अपने भाई से खुद के घर में 85 लाख रुपए की चोरी कराई थी। भाई और उसके साथी ने वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने घटना को 48 घंटे बाद आरोपी को दबोच लिया था। वारदात का षड्यंत्र रचने वाली बहू को बख्श दिया था।

बहू के दबाव में आने से उसके परिजनों ने आरोपियों को घटना करने से इंकार कर दिया था, जिससे आरोपियों को कोर्ट से जमानत मिल गई है।
देह व्यापार में 13 युवतियां पकड़ीं
विजयनगर पुलिस ने अगस्त माह में होटल में छापा मारकर वहां से 5 बांग्लादेशी युवतियों व 8 युवकों को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में चार अन्य लड़कियों की जानकारी मिली थी। सभी नौ लड़कियों को पुलिस ने सुरक्षा की दृष्टि से बाणगंगा स्थित शेल्टर होम भेजा था। इसी क्रम में एक पखवाड़े पहले बांग्लादेश की 3 अन्य लड़कियां भी स्कीम नंबर 54 तथा एक लड़की धामनोद से पकड़ी गई थी। इस तरह कुल 13 लड़कियां बरामद की थीं। मामले में 5 लड़के और पकड़े गए थे। सभी लड़के जेल में बंद हैं।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.