कांग्रेसी चश्मे को उतारकर आम लोगों ने देखा राहुल गांधी को…

कसौटी पर खरे उतरे यात्रा सफल बनाने वाले नेता

bharat jodo yatra latest news
bharat jodo yatra latest news

इंदौर। अंतत: इंदौर में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का कोई लाभ भाजपा को दिखे न दिखे पर यह यात्रा कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं को जमीन पर एकजुट करने में सफल हो गए। मालवांचल की इस यात्रा को सफल बनाने में कांग्रेस के कई नेताओं की बड़ी भूमिका रही।

इसमें अरुण यादव से लेकर सत्यनारायण पटेल, जीतू पटवारी, संजय शुक्ला की अहम भूमिका रही तो वहीं कांग्रेस के नगर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल और ग्रामीण अध्यक्ष सदाशिव यादव भी कार्यकर्ताओं से समन्वय बनाने में सफल हुए। संजय शुक्ला के पास पूरे मार्ग पर भोज की व्यवस्था थी तो सत्यनारायण पटेल के पास इंदौर के स्वागत से लेकर चिमनबाग पर ठहरने की व्यवस्था रही। जीतू पटवारी ने राऊ में अपनी लाइन और बड़ी कर ली।

प्रदेश के भाजपा नेता राहुल का जूता, राहुल की टीशर्ट, राहुल का कंटेनर, राहुल का टॉयलेट, राहुल का गद्दा, राहुल की दाढ़ी… वगैरह से संगठन और उसके नेता ऊपर उठ ही नहीं पाए। जब की यह यात्रा राजनैतिक परिदृश्य से कहीं आगे निकल गई है। इंदौर में लाखो लोग इस यात्रा में उमड़ पड़े यह कांग्रेस संगठन के बूते की बात नहीं पर यह जरूर है, की कमलनाथ सरकार के गिरजाने का जनता में पीड़ा जरूर दिखी लेकिन यह यात्रा करते हुए राहुल गांधी कौन कौन से सवाल उठा रहे हैं ? देश में लोकतंत्र कुचला जाना, संस्थाओं का बंधक हो जाना, विपक्ष की आवाज को खत्म कर देना, आर्थिक संकट का गहराते जाना, महंगाई, बेरोजगारी, किसान, मजदूर, दलित, आदिवासी और युवाओं से जुड़े सवाल उठा रहे हैं राहुल ! जो जनता के सवाल है। जिससे केंद्र सरकार और भाजपा के नेता सुनकर भी अनसुना कर रहे है। यही बात राहुल अपनी यात्रा के दौरान कह रहे है।

Also Read – Bharat Jodo Yatra: सांवेर में स्वागत के लिए उमडी भारी भीड़, तराना की सभा में पैर रखने की जगह नहीं बची

कश्मीर में तिरंगा फहराकर इस यात्रा का समापन होगा। तब इसकी तह में जाने पर बेहद गंभीर और बुनियादी बहसें होंगी। लेकिन उससे भाजपा को नुकसान होगा ? यह बड़ा सवाल समय के गर्भ में छुपा है! मोदी यह होने नहीं देंगे। 23 करोड़ लोगों के गरीबी रेखा से नीचे जाने पर बात होगी? क्या बढ़ती किसान और बेरोजगारों की आत्महत्याओं, ढह चुकी इकोनॉमी पर बात होगी? राहुल यात्री के रूप में लगातार संदेश दे रहे है की अब आपके पास सिर्फ दो रास्ते हैं- या तो आवाज उठाइए या फिर अनंत काल के लिए मजहबी सियासत में मशगूल हो जाइए।bharat jodo yatra latest news

देश आजादी के बाद इतना बड़ा नेता शायद ही इस तरह जमीन पर उतर कर जनता के बीच उनसे मिला। दिग्विजय सिंह में जो गजब की संगठन क्षमता है उसने मध्यप्रदेश में इस यात्रा को नया स्वरूप दिया जयराम रमेश के साथ उनका बेहतर ताल मेल के साथ जिन नेताओ के हाथ में उन्होंने इस यात्रा की कमान सोपी उन्हें उम्मीद से बडकर अपना योगदान दिया महू और उज्जैन की बड़ी जवाबदारी सज्जन सिंह वर्मा के पास है। महू डा भीमराव अंबेडकर की जन्म स्थली और ड्रीम लैंड चौराहे पर हुई जनसभा में बड़ी संख्या दलित वर्ग जुड़ा। इसमें कोई शक नहीं जीतू पटवारी युवाओं के नेता है। महू से यात्रा के आगाज के साथ हजारों की संख्या में युवा जुड़े राहुल के साथ कदम ताल करते हुए कार्यकर्ताओं के साथ अन्य लोगों को मिलवा रहे थे पूरी यात्रा की कमान उन्होंने ही संभाल रखी थी।

https://hi-in.facebook.com/rahulgandhi/

अंतिम समय में सत्यनारायण पटेल को मिले संस्कृति आयोजन ने चिमनबाग मैदान पर समा बांध दिया। दिल्ली से बुलाई गई इवेंट मैनेजमेंट की टीम के साथ सत्यनारायण पटेल ने वो कर दिखाया जो शायद कोई और नहीं कर पाता। बुरहानपुर से राजस्थान सीमा तक यात्रा के रात्रि विश्राम के शिवर में पद यात्रियों के भोजन की व्यवस्था विधायक संजय शुक्ला के पास है। जो उनके लिए बड़ी चुनौती थी एक तरफ पंडित प्रदीप मिश्रा की शिव महापुराण की कथा तो दूसरी तरफ पद यात्रियों के भोजन व्यवस्था वही खुद की से विधानसभा से सावेर तक की जवाबदारी संभालना लगातार 48 घंटो तक जाग कर पूरे आयोजन को बेहतर तरीके से अपनी टीम के साथ संभालना इतना दम सिर्फ संजय शुक्ला में ही था यह उन्होंने साबित कर दिया। bharat jodo yatra latest news

शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने भी राजेश चौकसे को साथ में लेकर संगठन को मिली जवाबदारियों को अच्छे तरीके से संभाला। चिमन बाग मैदान मिलने पर उन्हें थोड़ी राहत मिली। इंदौर के विधानसभा प्रभारियों ने भी कोई कसर अपनी ओर से नही छोड़ी शोभा ओझा, जिला कांग्रेस अध्यक्ष सदाशिव यादव, अश्विन जोशी,राजेश चौकसे, दीपक पिंटू जोशी,चिंटू चौकसे, सुरजीत चड्डा, गोलू अग्निहोत्री, शेख अलीम, अभय वर्मा, दीपू यादव, स्वप्निल कोठरी, शैलेश गर्ग,अरविंद बागड़ी, राजू भदौरिया, सच सलूजा, संतोष सिंह गोतम, देवेंद्र सिंह यादव, प्रवक्ता अमित चौरसिया, विवेक खंडेलवाल, संजय बाकलीवाल, इम्तियाज बेलिम, धर्मेंद्र गेन्दर, दिग्गज नेता सुरेश पचोरी का अनुभव, अरुण यादव की मालवा में लोकप्रियता, के साथ कमल नाथ के कुशल संगठन की छाप इस यात्रा में दिखाई दी।

नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह,पी सी शर्मा, सज्जन सिंह वर्मा, जय वर्धन सिंह, कमलेश्वर पटेल, मीनाक्षी नटराजन, बाला बच्चन, विजय लक्ष्मी साधो, अजय राहुल सिंह, प्रियव्रत सिंह, कुणाल चौधरी, विपिन वानखेड़े, विक्रांत भूरिया, ने जो परदे के पीछे इस यात्रा का स्वरूप मध्यप्रदेश में जनता के सामने लाने का प्रयास कर रहे थे उसने वो सफल हुए। बहरहाल करवा इंदौर से गुजर गया राहुल अपनी छाप जनता के मन में छोड़ गए। bharat jodo yatra latest news

कांग्रेसियों के वार्ड में नहीं हो रहे काम

इंदौर। नई परिषद बनने के बाद शहर में करोड़ों के विकास कार्य हो रहे है, लेकिन कांग्रेसी पार्षदों के काम नहीं किए जा रहे हैं। कुछ कांग्रेसियों ने इस संबंध में महापौर पुष्पमित्र भार्गव से भी शिकायत की है, जबकि महापौर ने विकास कार्यों में भेदभाव नहीं करने की मंशा से निगम के अधिकारियों को आदेशित किया है कि कांग्रेसी पार्षदों से रोजाना मुलाकात कर उनके क्षेत्र की समस्याओं का निराकरण करें। महापौर के आदेश के बाद अधिकारी पार्षदों तक पहुंच रहे हैं, लेकिन शिकायतों का निराकरण नहीं कर रहे हैं।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.