पिनेकल ड्रीम्स: चार साल बाद भी धरा रह गया 800 करोड़ लौटाने का प्लान

एक हजार करोड़ की जमीनें उलझा रखी है जालसाज आशीष दास ने

pinnacle dreams (पिनेकल ड्रीम्स)

इंदौर। एक ओर जहां जिला प्रशासन भूमाफियाओं पर लगातार नकेल कस रहा है तो अभी भी शहर में करोड़ों रुपए का चूना लगाने वाले माफिया चंद दिन जेल में रहने के बाद वापस आराम का जीवन जी रहे हैं। इसमे सबसे प्रमुख नाम पिनेकल ड्रीम्स घोटाले के बिल्डर आशीष दास का है जिसके कारण ८०० करोड़ से ज्यादा रुपया बैंकों से लेकर आम लोगों तक का उलझा पड़ा हुआ है।

ना प्लाट मिल रहे हैं ना फ्लेट मिल रहे हैं और खरीददार प्रशासन की गली-गली घूम रहे हैं। प्रशासन अगर इस मामले में एक कमेटी बनाकर अयोध्यापुरी की तरह प्रकरण को निपटाये तो एक हजार से अधिक प्लाट होल्डरों और फ्लेट खरीदने वालों को राहत मिल सकती है। आशीष दास शहर के उन बड़े जालसाजों में है जिसके अभिनेता ऋतिक रोशन को भी साढ़े नौ करोड़ का चूना लगा रखा है।

आशीष दास ने बड़ी राशि रात में होने वाली पार्टियों में इस कदर खर्च की कि कई प्रोजेक्ट उलझते चले गये। दास उच्च न्यायालय में ८०० करोड़ रुपए लौटाने का प्लान भी दे चुके थे। इसे भी समय हो गया पर कुछ भी नहीं हुआ स्थिति यथावत बनी हुई है। बल्कि नई जगह पर आशीष दास फिर से खेल करने लगे है।

Also Read – illegal builders: वर्षों बाद शहर में व्यवस्था पर दिखने लगा है प्रशासन का खौफ

बड़े ख्वाब दिखाकर शहर के कई परिवारों को पिनेकल ड्रीम्स के साथ पिनेकल डिजायर सहित कई योजनाओं में फ्लेट के साथ भूखंड भी देने के लिए योजना उतारी थी जालसाज आशीष दास ने निपानिया में बहुमंजिला भवन बनाकर एक साथ कई लोगों को बेचने के बाद यहां की भूमि भी बैंक में गिरवी रख दी थी। तो दूसरी ओर सुपर कॉरिडोर पर पांच लाख स्के.फीट की रजिस्ट्रियां प्लाट बेचने को लेकर की जा चुकी थी।

दूसरी ओर दो लाख स्के.फीट के भूखंडों की डायरियां आज भी बाजार में घूम रही हैं। इधर पिनेकल के निपानिया स्थित चार सौ फ्लेट बेचे जाने के बाद भी कब्जे नहीं मिल पा रहे हैं। आशीष दास ने इसके बाद बायपास पर जलसा गार्डन के पास दस एकड़ जमीन पर भी संजय अग्रवाल के साथ प्लाट बेचे थे। यहां पर भी किसी को भी आजतक भूखंड नहीं मिले हैं। आशीष दास पर मुकदमा दर्ज होने के बाद भी वह फिर जेल से बाहर आकर अपने काम में लग गय और उसने कोई योजना बनाकर नहीं सौंपी। दास के विरुद्ध लुकआउट नोटिस भी जारी हो चुका है।

9 करोड़ का चूना अभिनेता ऋतिक रोशन को भी लगा रखा है

hrithik roshan
hrithik roshan

https://twitter.com/ihrithik#:~:text=Hrithik%20Roshan%20(%40iHrithik)%20%2F%20Twitter

आशीष दास (पिनेकल ड्रीम्स) और उसके पार्टनर पुष्पेंद्र वडेरा जेएसकेम देवकान के नाम से कंपनी बनाकर निपानिया में पिनेकल ड्रिम्स प्रोजेक्ट की बुकिंग कर रहे थे। बड़ी जालसाजियों और अय्याशी में उड़ाये पैसों के बाद आर्थिक संकटों के चलते फरार हो गये थे। सुपर कारिडोर का भी पिनेकल डिजायर और बायपास का पिनेकल ग्रेंड भी विवादित करने के बाद फरार हो गये थे। जब पुलिस ने आशीष दास को गिरफ्तार किया तो उसने जस्टिस वर्मा को कुछ निवेशकों से रुबरु होने के बाद 800 करोड़ रुपए का प्लान सौंपा था कि वह किस प्रकार से खरीददारों को राहत देगा।

इसमे उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश दीपक वर्मा के समक्ष पेश होकर गठित कमेटी को बताया था कि वह कैसे कार्य करेगा। पिनेकल ड्रिम्स में शहर के कई हाईप्रोफाइल परिवारों ने पैसा लगा रखा है। इधर चार साल पूरे हो चुके हैं पिनेकल के नाम से उलझे हुए लोग आज भी इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि जस्टिस वर्मा के समक्ष रखे गये प्रस्ताव पर क्या कार्रवाई आगे बढ़ी। कुल मिलाकर इस शहर के आम लोगों का आशीष दास ने लगभग 800  करोड़ रुपए उलझा दिये हैं। इसमे बैंके भी शामिल हैं।

यदि यह प्रकरण निपटता है तो आम लोगों के साथ बैंकों को भी राहत मिलेगी जो लोग डिफाल्टर हो गये हैं वे अभी भी पैसा भरकर भूखंड या फ्लेट लेने के लिए तैयार है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.