गोपाल मंदिर से सराफा तक नो व्हीकल जोन होगा

निगम तैयार करेगा प्रस्ताव, सुलभ यातायात की कवायद

इंदौर। शहर के गोपाल मंदिर और सराफा बाजार में ग्राहकों की आवाजाही सुलभ करने निगम ने तैयारी शुरू कर दी है। इसके तहत इस मार्ग को नो व्हीकल जोन बनाया जाएगा। यह जोन केवल त्यौहारी सीजन ही नहीं, बल्कि वर्षभर रहेगा। इससे पैदल चलकर दुकानों तक आने वाले ग्राहकों को फायदा होगा। वाहन चालक को अन्य वीर सावरकर मार्केट में बने पार्किं में ही खड़े करने होंगे। ऐसा नहीं करने पर निगम की रिमूव्हल की टीम वाहन चालक पर स्पाट फाइन के साथ ट्रेफिक पुलिस से वाहन जब्त करने की अनुशंसा करेगी।

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के कार्यपालन यंत्री डीआर लोधी ने बताया कि मध्य क्षेत्र के बाजार में प्रवेश गोपाल मंदिर की ओर से अधिकांश ग्राहक करते हैं। यहां रेहड़ी तथा ठेले वालों के कारण ग्राहकों को आने जाने में दिक्कत आती है।

कई ग्राहक दोपहिया वाहन लेकर बाजार में घुस जाते हैं, जिन्हें गोपाल मंदिर से होकर दूसरे बाजार तक रेंगते हुए जाना पड़ता है। ग्राहक दुकानों के सामने ही वाहन पार्क करते हैं, जिससे भी यातायात का कचूमर निकल जाता है। कई बार तो ग्राहक एक-दूसरे से टकराते हुए निकलते हैं।
इस मार्ग की अस्त व्यस्त व्यवस्था को सुधारने ट्रेफिक पुलिस नजर नहीं आती है। ट्रेफिक पुलिस दुकानदार से वाहन खड़े करने का शुल्क लेकर गायब हो जाती है। यही कारण है कि गोपाल मंदिर से सराफा तक करीब आधा किलोमीटर तक ग्राहक को पहुंचने में 10 से 15 मिनट का समय लगता है। निगम ने कल पूरे मार्ग का दौरा किया।

इसके बाद निर्णय लिया कि गोपाल मंदिर से पीपली बाजार तक सड़क को व्यवस्थित करने के साथ पूरे मार्ग को नो व्हीकल झोन में भी तब्दील किया जाए, ताकि ग्राहकों को आने-जाने में आसानी रहे। वर्तमान में एमजी रोड पर सड़क निर्माण कार्य चल रहा है। इसके चलते कई ग्राहक इस मार्ग सेे होकर अन्य बाजारों में पहुंचते हैं, जिससे इस मार्ग पर यातायात का दबाव ओर बढ़ गया है। हालांकि, पुलिस कई बार गेट के मुख्य द्वार के पास बेरीकेडिंग करती है, लेकिन वाहन चालक बेरीकेडिंग को हटाकर गोपाल मंदिर मार्ग पर पहुंच जाते हैं।

लगातार चलाएंगे मुहिम

पूरे मध्य क्षेत्र के अलावा गोपाल मंदिर के प्रवेश द्वार से लेकर सराफा तक वाहनों का प्रवेश रोकने निगम लगातार मुहिम चलाएगी। रिमूव्हल विभाग की एक टीम यहां तैनात की जाएगी, जो वाहन चालकों को बाहर खदेड़ने का काम करेगी। टीम के कार्यों की रोजाना समीक्षा की जाएगी।

हॉकर्स जोन

निगम के अधिकारियों के मुताबिक, यहां फुटपाथ और ठेले पर धंधा करने वालों का प्रवेश सख्ती से रोकने का अभियान चलाया जाएगा। उन्हें व्यवस्थित यातायात के लिए हॉकर्स जोन में जगह देने की तैयारी की जा रही है। जो ठेले और फुटपाथ वाले हाकर्स जोन में नहीं जाएंगे, उनका सामान जब्त कर लिया जाएगा।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.