वार्ड परिक्रमा क्षेत्र क्र. 1 : भाजपा 1 वार्ड में मजबूत, 2 वार्ड में कांग्रेस, 1 वार्ड में ब्राह्मण कार्ड चलेगा

विकास के दावों के बाद भी वार्ड के रहवासी छोटी-छोटी समस्याओं के लिए संघर्ष कर रहे हैं

इंदौर। आज क्षेत्र क्र. 1 के 4 वार्ड यानी 5, 6, 7, 8 को लेकर वार्ड परिक्रमा में चुनाव की जमीनी हकीकत से हम अपने पाठकों का सामना करवा रहे हैं। कल वार्ड क्र. 1 से 4 तक दी जानकारी में जहां 3 वार्डों में कांग्रेस वजनदार और एक वार्ड में भाजपा की खींचतान का लाभ के हालात बताए थे। वहीं आज वार्ड क्र. 5 जो लम्बे समय से भाजपा का गढ़ रहा है। जहां परम्परागत भाजपा भारी है तो वहीं वार्ड 6 में सांसद समर्थक संध्या यादव के खिलाफ भाजपा में ही मोर्चा खुल गया है। वार्ड क्र. 7 में इस बार पूर्व पार्षद अनिल शुक्ला और मनोज मिश्रा परिवार में आमना-सामना है। यहां भाजपा को फिलहाल नुकसान होता दिखाई दे रहा है। वार्ड क्र. 8 मुस्लिम बहुल होने के कारण पूरी तरह से कांग्रेस के पक्ष में जाना तय है।

 

वार्ड क्र. 5 राजनगर
जनसंख्या 26241


आबादी वार्ड क्र. 5 राजनगर में भाजपा के कद्दावर नेता और क्षेत्र के विधायक रहे सुदर्शन गुप्ता के करीबी निरंजनसिंह चौहान और कांग्रेस के योगेन्द्र मौर्य के बीच मुकाबला है। यह वार्ड परम्परागत भाजपा को होने के साथ ही इस वार्ड में राजस्थान से आए हुए लोगों के अलावा दर्जी समाज का भी बड़ा प्रभाव है। इस वार्ड में 3100 मुस्लिम मतदाता भी हैं। इसके बाद भी यहां से भाजपा जीतती रही है। इस बार मुकाबला रोचक हो रहा है परंतु बड़े वोट का अंतर जीत पर दिखाई नहीं देगा। यहां भाजपा अभी भी मामूली वोट से बढ़त बनाए हुए है। पिछले नगर निगम चुनाव में यहां भाजपा 5621 वोट से विजय हुई थी तो वहीं विधानसभा चुनाव 2018 में इस वार्ड में भाजपा 2434 वोट से विजयी रही थी।

वार्ड क्र. 6 मल्हारगंज
जनसंख्या 22202


यह वार्ड इस बार भाजपा के अखाड़े के रूप में पहचान बना रहा है। इस क्षेत्र से शंकर ललवानी ने अपने खास समर्थक संध्या यादव को मैदान में उतारा है। संध्या यादव इस क्षेत्र की रहने वाली भी नहीं हैं। वे भागीरथपुरा में रहती हैं। उनकी उम्मीदवारी घोषित होते ही भाजपा कार्यकर्ताओं ने विद्रोह का बिगुल फुंक दिया। इस दौरान सुभाष मंडल के अध्यक्ष कपिल शर्मा, वार्ड संयोजक मुकेश खटवा, गजेन्द्र रठौर, कविता यादव ने अपने तमाम साथियों के साथ मिलकर शंकर ललवानी और संध्या यादव के पुतलों को बांधकर गोल-गोल घुमाकर फिर पुतला दहन कर भारी नारेबाजी की। इस उम्मीदवारी को लेकर भाजपा कार्यालय पर भी जमकर नारेबाजी की गई। इसका नुकसान यहां भाजपा महापौर प्रत्याशी को भी उठाना होगा। यहां पर संध्या यादव का कोई जमीनी आधार नहीं होने और भारी विरोध का लाभ कांग्रेस को मिलना तय है। पूरे वार्ड में भाजपा बिखरी हुई दिखाई दे रही है। यह वार्ड भाजपा समर्थित होने के बाद भी असमंजस की स्थिति में पहुंच गया है। खुद सांसद शंकर ललवानी का भी इस वार्ड में जनाधार नहीं है और इसके चलते भाजपा यहां चुनाव शुरू होने से पहले ही मैदान से बाहर होती दिखाई दे रही है। पिछले नगर निगम चुनाव में यहां से भाजपा ने 4459 वोटों से विजय हासिल की थी वहीं विधानसभा चुनाव 2018 में यहां भाजपा की लीड घटकर 1132 वोटों की ही रह गई थी। पिछले दोनों चुनाव में यहां पूरी भाजपा एक जाजम में खड़ी दिखाई दे रही थी।

वार्ड क्र. 7 जनता कालोनी
जनसंख्या 16898


यह वार्ड ब्राह्मण बाहुल्य कहलाता है और यहां भाजपा की तरफ से पूर्व पार्षद मनोज मिश्रा की पत्नी भावना मिश्रा को मैदान में उतारा है। मनोज मिश्रा के कार्यकाल में यहां विकास कार्यों को लेकर लम्बी शृंखला रही तो दूसरी ओर कांग्रेस में पूर्व पार्षद और कांग्रेस के ताकतवर नेता रहे अनिल शुक्ला की बेटी साक्षी शुक्ला डागा को प्रत्याशी बनाया है। अनिल शुक्ला खुद भी इस वार्ड में कांग्रेस के सबसे ताकतवर नेता कहलाते हैं। उनके पूर्व पार्षद के कार्यकाल में भी यहां पर विकास कार्य हुए वहीं दूसरी ओर वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और अध्यक्ष रहे कृपाशंकर शुक्ला के परिवार से ही आते हैं। इस क्षेत्र में उनका बड़ा सामाजिक सरोकार रहा है। दूसरी ओर यह वार्ड भाजपा के अनुकूल रहा है परंतु मनोज मिश्रा सेकार्यकर्ताओं की लगातार नाराजगी और जनता से मनमुटाव का खमियाजा भाजपा को उठाना पड़ सकता है वहीं कांग्रेस प्रत्याशी साक्षी शुक्ला को वैश्य समाज में विवाह होने के कारण अग्रसेन नगर, छत्रीपति नगर, गौरव नगर, महावीर नगर, राधा नगर, नीलकंठ कालोनी में अच्छा फायदा मिल रहा है। वैश्य समाज के कई परिवार साक्षी शुक्ला डागा का प्रचार कर रहे हैं। पिछले नगर निगम चुनाव में यहां से भाजपा में 2058 वोट से विजय हासिल की थी तो वहीं विधानसभा चुनाव 2018 में यहां भाजपा 1816 वोट से जीती थी। यह वार्ड भाजपा स्वभाव का वार्ड भी कहलाता है। सोमवार को दैनिक दोपहर में इसी पृष्ठ पर वार्ड क्र. 9, 10, 11, 12 और 13 की परिक्रमा दी जाएगी।

 

वार्ड क्र. 8 जूना रिसाला
जनसंख्या 23058


इस बार यह वार्ड कांग्रेस के ही दांव-पेज में लम्बे समय उलझा रहा। इस वार्ड से कांग्रेस ने दो बार पार्षद रहे अनवर दस्तक की पत्नी रुखसाना दस्तक को अपना प्रत्याशी बनाया है। वहीं भाजपा ने पूर्व पार्षद नीता शर्मा को मैदान में उतारा है। इस वार्डकी 60 प्रतिशत आबादी मुस्लिम है जबकि 40 प्रतिशत यहां पर हिन्दू मतदाता हैं। कांग्रेस मेें इसी के विद्रोही के रूप में मैदान में नहीं आने के कारण यहां पर भी कांग्रेस इस बार निकल सकती है। हिन्दू मतदाता को अपने पक्ष में लाने के लिए नीता शर्मा ने पूरी हिन्दू बस्तियों में लगातार अपनी पैठ जमाने के लिए सारे प्रयास शुरू कर दिए हैं परंतु उनका पुराना कार्यकाल भी यहां काफी चर्चा में रहा। भाजपा का ही एक बड़ा धड़ा उनके कार्यकाल में लगातार उनसे मोर्चा लेता रहा है। दूसरी ओर अनवर दस्तक मुस्लिम समाज से निश्चिंत होकर अब हिन्दू बस्तियों में भी अपने व्यक्तिगत सम्पर्कों को साधने के लिए प्रयास शुरू किए हैं। अनवर दस्तक को हिन्दू बस्ती में भी कांग्रेस का स्थापित वोट मिले इसके लिए वे प्रयत्नशील हैं। पिछले नगर निगम चुनाव में जहां कांग्रेस 1742 वोटों से विजयी हुई थी वहीं विधानसभा चुनाव 2018 में कांग्रेस ने यहां रेकार्ड जीत प्राप्त की थी। यहां से कांग्रेस को 7460 वोट मिले थे। इस आधार पर इस वार्ड में एक बार फिर कांग्रेस का ही परचम लहराता दिख रहा है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.