मानव तस्करी और प्रदूषण फैलानेवाले भी ईडी राडार पर

टेंट कारोबारी, दवा फैक्ट्री संचालकों के बारे में भी जुटाई जा रही जानकारी

इंदौर। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) अब अपनी कार्यवाही का दायरा बढाने जा रहा है। इसी के चलते, अब प्रिवेशन आफ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएलए २००२) के तहत मानव तस्करी और प्रदूषण फैलाने वाले भी ईडी के राडार पर है। इतना ही नहीं, टेंट कारोबारी एवं दवा फैक्ट्री संचालकों के बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है।
उल्लेखनीय है कि अभी तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) अवैध कामों से कमाई करने वालों के खिलाफ मनी लाडिं्रग एक्ट के तहत केस दर्ज कर संपत्ति अटैच करते रहा है।


बावजूद इसके, अब यह अपनी कार्यवाही का दायरा बढाने जा रहा है। अब ईडी मानव तस्करी के साथ कारखानों के जरिए कमाई कर प्रदूषण फैलाने वालों पर भी शिकंजा कसने जा रहा है। यहां पर यह प्रासंगिक है कि अभी तक विभाग ने भूमाफिया बाबी छाबड़ा, करोड़ों रुपए का घोटाला करने वाले जूम डेवलपर्स के मालिक विजय चौधरी, नगर निगम के बेलदार असलम खान के मामलों में केस दर्ज कर करोड़ों रुपए की संपत्ति अटैच कर चुका है। महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि अभी तक जिन लोगों की संपत्तियां अटैच की गई है, उनमें से एक भी केस ईडी के खिलाफ नहीं गए और सारी संपत्तियां अटैच है।

नदी-तालाब को प्रदूषित करने वालों पर होगी कार्रवाई
सूत्रों के अनुसार, प्रदेश में ईडी का एकमात्र कार्यालय अभी इंदौर में है और यह कार्यालय अहमदाबाद कार्यालय के अधीन है। ईडी की सारी कार्रवाई पीएमएलए एक्ट के तहत होती है। इस एक्ट में मानव तस्करी करने वाले, ड्रग तस्करों के साथ ही प्रदूषण फैलाने वालों पर भी कार्रवाई का अधिकार है। शहर में कान्ह नदी के साथ ही कुछ अन्य जल ोतों में प्रदूषण फैलाने, केमिकल छोड़ने के मामले आए हैं। कुछ पर नगर निगम ने तो कुछ पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कार्रवाई की है। इन सभी मामलों की ईडी जानकारी जुटा रहा है और जल्द ही इन मामलों में केस दर्ज करेगा। इसके अलावा ईडी व्दारा टेंट व्यवसायियों और दवा फेक्ट्री संचालकों की भी जानकारी जुटाई जा रही है।

ड्रग्स मामले में भी ईडी करने जा रही कार्यवाही
इधर पिछले साल क्राइम ब्रांच ने ७० करोड़ की एमडी के साथ टेंट कारोबारी दिनेश अग्रवाल व तेलंगाना की फार्मा फेक्ट्री संचालक को पकड़ा था। गिरोह से जुड़े ४० आरोपी अभी तक पकड़े जा चुके हैं और इनसे लाखों रुपए जप्त भी हो चुके हैं। क्राइम ब्रांच ने इस मामले में पूरी जानकारी ईडी को दे दी है। ईडी जल्द ही मनी लाड्रिंग का केस दर्ज कर नशा बेचकर इक_ा की गई करोड़ों रुपए की संपत्तियां अटैच करने की कार्यवाही करने जा रही है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.