इंदौर के कई प्रोजेक्ट रद्द, सूची जारी बिना अनुमति ही बेच रहे हैें प्लाट

रेरा ने 209 प्रोजेक्ट की अनुमति रद्द की

इंदौर। शहर में बिना रेरा (रियल स्टेट रेग्युलेटरी एक्ट) की अनुमति के कई टाऊनशिप द्वारा अपने यहां मेला लगाकर भूखंडों को बेचने का काम जोरशोर से कर रहे हैं। कई शिकायतों के बाद केवल आवेदन नंबर डाल कर ही भूखंड बेच रहे कर्ताधर्ताओं के खिलाफ आज रेरा ने कार्रवाई करते हुए 209 अनुमतियां रद्द कर दी है। इनमें से कई तो केवल आवेदन नंबर को ही रेरा की अनुमति बताकर 50 करोड़ से अधिक रुपए के प्लाटों की रजिस्ट्रीयां भी करवा चुके हैं। इस मामले में बिल्डरों का कहना है कि रेरा बिना दांत वाला शेर है, कुछ नहीं कर सकते। पहले भी बिक रहे थे, रजिस्ट्रियां हो रही थी, अभी भी बिकेंगे।
रेरा द्वारा आज 209 टाउनशिप की सूची जारी की है जिनकी अनुमतियां रद्द कर दी गई है। इनके लगाए गए आवेदनों में कई त्रुटियां पाई गई थी। कई बार पत्र भेजने के बाद भी रेरा को कोई जानकारियां उपलब्ध नहीं कराई गई। दूसरी ओर इंदौर में इन दिनों मेले लगवाकर कई टाउनशिप अपने यहां भूखंड बेच रही है। इनमें से चार ऐसी हैं जिन्होंने रेरा में किए गए आवेदन को ही अनुमति बताते हुए भूखंड बेच दिए हैं। इसी के साथ आश्चर्य की बात यह है कि इन भूखंडों पर बैंकों ने ऋण भी स्वीकृत कर दिए हैं। दूसरी ओर बैंक लोन होने के साथ ही यहां पर निर्माण की प्रक्रियाएं भी की जा रही है। इनमें तीन प्रकरण बायपास के हैं, तो वहीं इंदौैर शहर के 30 प्रतिशत प्रकरण यानी 60 के लगभग बिना रेरा अनुमति के काम कर रहे हैं। शहर में आम लोगों के साथ हो रही धोखाधड़़ी के मामले में अभी तक कोई कार्रवाई शुरू नहीं की गई है। इस मामले में जिला प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि कोई शिकायत करेगा तो फिर डेवलपर के खिलाफ धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर दिया जाएगा। शहर में जमीनों के कामकाज में आई तेजी के कारण इन दिनों डायरियों से लेकर कई प्रकार से भूखंड बेचे जा रहे हैं। जिन प्रकरणों में पिछली बार जिला कलेक्टर द्वारा डायरियों में लिए गए पैसों को लेकर कार्रवाई की गई थी अब उन्हीं प्रकरणों में फिर से 4-4 किश्तें और जमा हो गई है। दूसरी ओर बिना रेरा अनुमति के शहर में जमीनों के नाम पर जालसाजी शुरू हो गई है। इधर सुबह 11 बजे तक रेरा ने अपनी साइड पर रद्द हुए प्रोजेक्ट की सूची नहीं डाली थी, परंतु सूत्र बता रहे है कि इंदौर के कई प्रोजेक्ट इसमें शामिल है जो चाही गई जानकारी देने को तैयार नहीं है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.