इंदौर: बैंक मैनेजर के यहां छापा

दो करोड़ से ज्यादा की बेनामी संपत्ति मिली, कार्रवाई जारी

इंदौर। मनावर में पदस्थ नर्मदा झाबुआ बैंक के मैनेजर के यहां आज सुबह लोकायुक्त पुलिस ने छापे की कार्रवाई की। बताया जाता है कि मैनेजर के यहां आय से अधिक संपत्ति होने की शिकायत के बाद छापेमारी की गई। लोकायुक्त की अलग-अलग टीमों इंदौर सहित मनावर और कुक्षी में कार्रवाई की। इस कार्रवाई में अब तक करीब दो करोड़ रुपए की संपत्ति मिली है।
जानकारी के अनुसार मानवता नगर में स्थित एक अपार्टमेंट में नर्मदा झाबुआ बैंक के मैनेजर राजा राम शिंदे के यहां लोकायुक्त पुलिस ने बुधवार सुबह छापामार कार्रवाई की। लोकायुक्त की चार टीमों की इंदौर सहित मनावर व कुक्षी में भी यह कार्रवाई चल रही है। मुख्य कार्रवाई मनावर में चल रही है। इस समय तक राजा राम शिंदे के पास से डेढ़ करोड की संपत्ति मिली है, जिसमें कारें, मकान, दो पहिया वाहन शामिल हैं। राजा राम शिंदे इस समय मनावर में पदस्थ हैं और लोकायुक्त की मुख्य कार्रवाई मनावर में ही की जा रही है।

इंदौर सहित मनावर व कुक्षी में भी चल रही कार्रवाई
इसके अलावा मनावर-कुक्षी में भी कार्रवाई जारी है। राजाराम की नर्मदा झाबुआ बैंक में पोस्टिंग क्लर्क के तौर पर हुई थी। दो साल पहले ही पदोन्नत कर मनावर में प्रबंधक बनाया गया था।
भ्रष्टाचार की शिकायत
सूत्रों के अनुसार राजाराम के खिलाफ बैंक में भ्रष्टाचार की शिकायत मिली थी। राज्य सरकार की किसानों के ऋण माफी योजना में राजा राम ने रुपये लेकर हेरफेर किया था। राजा राम के दो बेटे हैं। एक बेटा मनावर में ही है और दूसरा बेटा इंदौर में है। इंदौर में लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई इसी बेटे के यहां जारी है। मानवता नगर में छोटा बेटा किराए के फ़्लैट में रहता हैं। कुक्षी में भी मकान था जो किराए पर दे दिया।
कारें, जमीन व मकान का पता चला
अभी तक राजा राम के पास से, पत्नी की संपत्ति (जमीन) हटाने के बाद डेढ़ करोड की अनुपातहीन संपत्ति मिली है। इसमें कारें, जमीन, मकान व दो पहिया वाहन शामिल हैं।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.