शहर में पांच नए रोड बनेंगे, खुलेंगे व्यापार के रास्ते

शासन ने दी अनुमति, सर्वे के बाद शुरू होगा काम

इंदौर। शहर में निगम नए मास्टर प्लान 2035 के आधार पर विकास का नया खाका खींच रहा है। इसी क्रम में पांच बड़ी सड़कों को शामिल किया गया है, जिन्हें सर्वे के बाद बनाने का काम शुरू किया जाएगा। इन सड़कों की अनुमति के लिए शासन ने अनुमति दी है। इन सड़कों पर 171 करोड़ रुपए से अधिक की राशि खर्च होगी। यह सड़कें बायपास और सुपर कारिडोर से शहर के मध्य क्षेत्र को जोड़ने का काम करेगा। एमआर सड़क निर्माण की राह भी आसान हो जाएगी। सड़क निर्माण में लगने वाली राशि का लोन भी निगम ले सकेगा। राशि लेने की प्रक्रिया भी शीघ्र शुरू की जा सकती है। इन सड़कों के बनने से कई क्षेत्रों के व्यवसाय को गति मिलेगी। सड़कों की चौड़ाई 105 फीट रहेगी, जिससे न सिर्फ यातायात में सुधार होगा, बल्कि दोनों ओर दुकानें खुलने से रहवासियों को लाभ मिल सकेगा।
निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि प्राधिकरण द्वारा मास्टर प्लान की सड़कों के निर्माण हेतु शासन से अनुमति मांगी थी। 171 करोड़ की राशि से आरई 2, आरई 3 व एमआर 5 सड़क का निर्माण होगा। लोन राशि निगम बेटरमेंट चार्ज वसूल कर चुकाएगा। आरई 2 सड़क निर्माण के लिए निगम ने चार्ज वसूलना भी शुरू कर दिया है। सड़कों के निर्माण हेतु चार विकास योजना बनाकर राज्य को अनुमति प्रदान करने के लिए भेजी गई थी। निगम का सबसे पहले फोकस आरई 2 सड़क निर्माण को लेकर रहेगा। इस सड़क से नेमावर रोड और आईडीए द्वारा बनाए जा रहे नायता मुंडला आईएसबीटी बस स्टैंड सीधे जुड़ जाएंगे। निगम योजना विभाग के अपर आयुक्त अभय राजनगांवकर ने बताया कि एमआर 3, एमआर 9, एमआर 5 और आरई 2 सड़क निर्माण की योजना सरकार से मंजूरी के लिए भेजी गई थी। तीन योजनाओं पर मंजूरी मिलने के बाद अब लोन की अनुमति भी देना है। सड़क निर्माण के बाद बाद शहर के यातायात की बाधा दूर होगी। इसी तरह निगम कई अन्य सड़कों को चौड़ा करने की योजना बना रहा है। नई चौड़ी सड़क बनने से व्यवसाय में बूम आने के साथ यातायात व्यवस्था में आमूलचूल सुधार हो सकेगा। निगम की पहली प्राथमिक ट्रेफिक सुधार की कहै।
एमआर -5
सड़क बांगड़दा रोड पर जाने के लिए अभी जर्जर सड़क है। चौड़ी सड़क बनने से नर्मदा लाइन, सीवरेज लाइन, ड्रेनेज की लाइन डालने की भी जगह मिल जाएगी। क्षेत्र का नया विकास नजर आएगा। यह सड़क इंदौर वायर चौराहे से बांगड़दा सुपर कारीडोर तक 5 किलोमीटर बनेगी। चौड़ाई 45 मीटर होगी। इससे सुपर कारीडोर शहर के मध्य क्षेत्र से सीधे जुड़ जाएगा।
एमआर -3
सड़क पीपल्याहाना रीजनल पार्क से बायपास तक(ट्रूबा कॉलेज के सामने तक) बनेगा, जिससे रहवासियों को बायपास तक पहुंचने के लिए एक ओर वैकल्पिक मार्ग मिलेगा। यहां सड़क 4.75 किलोमीटर बनेगी। यह सड़क 45 मीटर चौड़ी होगी। इससे खंडवा रोड और राऊ का ट्रेफिक कम होगा।
आरई 2 सड़क
बचा हुआ हिस्सा बनने से सर्वाधिक फायदा बिचौली हप्सी, पालदा, नायता मुंडला का विकास आसान होगा। अभी भारी ट्रेफिक जो बायपास से रिंगरोड के बीच है, वह क्रास हो सकेगा। मास्टर प्लान में इस सड़क की चौड़ाई भी 45 मीटर है। आईडीए द्वारा इस सड़क निर्माण के लिए काम शुरू कर दिया गया है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.