40 फीसदी गिरावट से बिटक्वाइन बेहाल

कजाकिस्तान में राजनीतिक अस्थिरता, हिंसा और ओमिक्रॉन का असर

नई दिल्ली (ब्यूरो)। कजाकिस्तान में राजनीतिक अस्थिरता, हिंसा और दुनियाभर में ओमिक्रॉन के कहर का असर बिटक्वाइन पर भी पड़ा है जिसके कारण 40 फीसदी की भारी गिरावट आने से बिटक्वाइन के हाल बेहाल हो रहे हैं। क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में तेजी आने से उछाल के कारण डिजिटल क्वाइन लोगों को खूब पसंद आ रहा है।
बाजार सूत्रों के मुताबिक कम समय में तेजी से अधिक रिटर्न पाने के लिए लोग क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं। क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में तेजी से आने वाले उछाल के कारण ये डिजिटल क्वाइन लोगों को खूब पसंद आ रहा है। अगर कीमत की बात करें तो क्रिप्टोकरेंसी की कीमत जितनी तेजी से ऊपर चढ़ती हैं उतनी ही तेजी से नीचे भी उतर जाती है। सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन की कीमतों में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी हुई है। बिटक्वाइन की कीमतों में गिरावट आई है। आज बिटकॉइन की कीमत में 42000 डॉलर के स्तर को पार कर गया है। आज बिटक्वाइन 42156 डॉलर पर 0.30 फीसदी की मामूली बढ़त दर्ज की गई, लेकिन आज इस क्रिप्टो करेंसी की कीमत में ऑल टाइम हाई से लगभग 40 फीसदी तक नीचे चल रहा है। यानी अगर आपने नवंबर में 1 लाख रुपए निवेश किया होगा तो अब आपका पैसा अब 40 हजार रुपए रह गई होगी। बिटक्वाइन की कीमत में 40 फीसदी की गिरावट आई है। नवंबर में बिटक्वाइन की कीमत जहां 69000 डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई थी तो वहीं अब इसकी कीमत में 27 हजार डॉलर से अधिक की गिरकर 42000 डॉलर के करीब पहुंच गया है। अगर बात साल 2022 की करें तो इस साल सोने की कीमत में 9 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है। अगर बिटक्वाइन के अलावा ईथर की कीमत पर नजर डाले तो 3173 डॉलर पर हैं। वहीं डॉगकॉइन की कीमत लगभग 0.38 फीसदी गिरकर 0.152 डॉलर पर पहुंच गई, जबकि शीबा इनु की कीमत आज 0.00028 डॉलर रही है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.