पंचायत चुनाव : कई स्कूलों में पड़ गए ताले

ऑनलाइन पढ़ाई पर जोर, 25 दिन बाद खुलेंगे

इंदौर। पंचायत चुनाव के कारण शहर के कई निजी स्कूल और कालेज में ताले पड़ गए हैं। बच्चों को घर पर ही आनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है। शैक्षणिक संस्थाएं पंचायत चुनाव की मतगणना के बाद खुलेंगे। इस तरह करीब 25 दिन स्कूल बंद रहेंगे। स्कूल खुलते ही बोर्ड की परीक्षाओं की तैयारी शुरू हो जाएगी। इसे देखते हुए स्कूलों में कोर्स शीघ्र पूरा कराने पर जोर दिया जाएगा।
पंचायत चुनाव की घोषणा के बाद उप जिला निर्वाचन विभाग ने मतदाता सूची, मतदान पर्ची तथा नए वोटरों के नाम जोड़़ने-घटाने का काम शुरू कर दिया है। इसी बीच, चुनाव में लगने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों को प्रशिक्षण भी दिया गया है। अगले सप्ताह उन्हें मतदान केन्द्रों पर ड्यूटी लगाने के आदेश मिल जाएंगे। मतदाता सूची का काम तेजी से चल रहा है। जिला निर्वाचन कार्यालय के आदेश पर मतदान केन्द्रों को भी तैयार किया जा रहा है। किस कर्मचारी किस केन्द्र पर ड्यूटी लगेगी, इसका भी सारा खाका तैयार हो रहा है। चुनाव में हर बार की तरह इस बार भी शिक्षकों को शामिल किया गया है। शिक्षकों के चुनाव में ड्यूटी लगाने के कारण कई स्कूलों में एक भी शिक्षक नहीं बचे हैं। ऐेसे में स्कूलों में ताले डालने की नौबत आ गई है। इस संबंध में स्कूल प्रबंधन ने पालकों को सूचित कर दिया है, ताकि वे परेशानी से बच सके।
बीएलओ ने जमाया डेरा
स्कूल परिसरों में आगामी नगर निगम चुनाव को लेकर भी बीएलओ ने डेरा जमा लिया है। कई बीएलओ सुबह से शाम तक टेबल लगाकर मतदाता सूची अपडेट करने में लगे हुए हैं। घर-घर जाकर लोगों से रंगीन फोटो लिए जा रहे हैं, ताकि रंगीन वोटर कार्ड बनाकर दिया जा सके।
परीक्षाओं के लिए सेंटर तय करेंगे
बमुश्किल स्कूलों में 100 प्रतिशत उपस्थिति होने लगी थी। सबकुछ सामान्य था, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण उपस्थितियां कम होने से स्कूलों में बच्चे वैसे भी कम पहुंच रहे थे। अब चुनाव के कारण पूरी तरह से स्कूलों में आने लग गए हैं। स्कूलों के ताले खुलने के बाद बोर्ड परीक्षाओं के लिए स्कूल संचालक सेंटरों की तैयारी करने में जुट जाएगा। ताकि फरवरी-मार्च में होने वाली बोर्ड की परीक्षाओं के लिए बच्चों को परेशान न होना पड़े।

50 फीसदी थी उपस्थिति
कोरोना संक्रमण के चलते करीब एक पखवाड़े पहले सरकार ने स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति 50 प्रतिशत करने के आदेश दिए थे। आदेश का कड़ाई से पालन कराने का जिम्मा क्षेत्रीय एसडीएम को सौंपा गया था। बच्चे तीन-चार दिन ही 50 फीसदी उपस्थिति के साथ स्कूल पहुंचे होंगे और शिक्षकों के कारण स्कूल बंद करना पड़ गए।

अर्धवार्षिक परीक्षा भी आनलाइन
सामान्यतौर पर दिसम्बर माह में अर्धवार्षिक परीक्षाएं आयोजित होती है। वर्तमान में स्कूलों में तालाबंदी होने से इस बार अर्धवार्षिक परीक्षाएं भी आनलाइन कराने की योजना है। इस संबंध में सोमवार को जिला शिक्षा विभाग से आदेश हो जाएंगे।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.