स्कूल-कॉलेजों के होस्टल होने लगे खाली

मरीज बढ़ने की आशंका के चलते प्रशासन का निर्णय

इंदौर। लगातार वैक्सीनेशन और सेम्पलिंग के बावजूद कोरोना संक्रमण के मरीजों का आंकड़ा कम नहीं हो रहा है, जिससे प्रशासन की चिंता बढ़ गई है। संक्रमण से निपटने प्रशासन ने अस्पतालों के साथ अन्य तैयारियां शुरू कर दी है, ताकि संक्रमण अधिक फैलने पर किसी तरह की परेशानी मरीज को नहीं आए। इसी बीच, कल प्रशासन के आदेश के बाद स्कूल और कॉलेजों के होस्टल खाली कराए जा रहे हैं। यहां रहने वाले छात्रों को निर्देश दिए हैं कि वे रहने के लिए अन्यत्र स्थान की तलाश करें।
दीपावली और वैवाहिक सीजन शुरू होने के बाद यह कयास लगाए जा रहे थे कि कोरोना संक्रमण पैर पसार सकता है। कयास को उस समय बल मिल गया, जब एक पखवाड़े से मरीजों की संख्या बढ़ने लगी। प्रारंभ के एक-दो दिन मरीज बढ़ने पर प्रशासन गंभीर नहीं हुआ, लेकिन जैसे-तैसे मरीजों का आंकड़ा बढ़ने लगा, वैसे-वैसे प्रशासन की चिंता बढ़ती चली गई। सबसे पहले शासकीय अस्पतालों में अतिरिक्त बिस्तरों की व्यवस्था कराई। जिन अस्पतालों में पिछले दिनों आक्सीजन प्लांट लगाए गए थे, उनका औचक निरीक्षण किया और अधिकारियों को निर्देश दिए। जहां प्लांट का काम पूरा नहीं हुआ, वहां तत्काल काम खत्म करने को कहा गया। वैक्सीनेशन पर कड़ाई बरती जा रही है। बाहरी राज्यों से आने वाले यात्रियों की स्टेशन, एयरपोर्ट पर आरडीपीसीआर जांच कराई जा रही है। इसके बावजूद कई रहवासी क्षेत्रों में संक्रमित सामने आ रहे हैं। कल नाइजीरिया से लौटकर आई बालिका संक्रमित मिली थी, इसके बाद प्रशासन ने और सख्ती बरतना शुरू कर दी है।
स्कूलों का होने लगा निरीक्षण
स्कूली बच्चों को संक्रमित होने से बचाने पिछले दिनों कलेक्टर मनीषसिंह ने आदेश जारी किए थे कि स्कूलों में बच्चों की संख्या 50 फीसदी रखी जाएगी। बच्चों की उपस्थिति देखने के निर्देश क्षेत्रीय एसडीएम को दिए हैं। एसडीएम ने अपने-अपने क्षेत्र के स्कूलों में जाकर निरीक्षण किया। कहीं भी 50 प्रतिशत से अधिक बच्चे नहीं मिले।

मैरिज गार्डनों में आगामी बुकिंग को लेकर संशय
कोरोना संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा था कि मरीज इसी तरह बढ़ते रहे तो अगले माह जनवरी में तीसरी लहर आ सकती है। लहर आने की जानकारी से लोगों में भय बना हुआ है। होटलों के साथ मैरिज गार्डन संचालकों ने भी आगामी बुकिंग को लेकर अभी मन नहीं बनाया है। मैरिज गार्डनों में अभी वैवाहिक आयोजन हो रहे हैं। आयोजन 19 दिसम्बर तक होंगे। इसके बाद 14 जनवरी मकर संक्रांति तक मलमास रहेगा। इसके बाद फिर वैवाहिक मुहूर्त रहेंगे। लेकिन, मलमास खत्म होने के बाद मैरिज गार्डनों में बुकिंग नहीं हो पाएगी। संचालक का कहना है कि तीसरी लहर आने से वैवाहिक आयोजनों को लेकर सरकार की नई गाइड लाइन जारी हो सकती है। ऐसे में बुकिंग कराने के बाद आयोजक पैसे मांगने को लेकर विवाद की स्थिति भी बनती है।
तीन महीने पहले खुले थे होस्टल
कोरोना संक्रमण के चलते स्कूल और कॉलेजों को होस्टल तीन माह पहले खुले थे। सबकुछ सामान्य होने से होस्टलों में फिर छात्रों ने आने का सिलसिला शुरू कर दिया था। अब फिर होस्टल खाली करने से उनके सामने संकट खड़ा हो गया है। छात्रों के मुताबिक, छात्रवृत्ति की राशि से होस्टल व पढ़ाई का खर्च निकालते हैं। अब तक छात्रवृत्ति नहीं मिली है। परिजनों से पैसा लेकर होस्टल का किराया चुका रहे हैं। बाहर कमरा लेने से अधिक किराया चुकाना होगा, जिससे कई छात्र वापस अपने गृहग्राम जा सकते हैं।

राधास्वामी सेंटर पर तैयारियां
कुछ दिन पहले कोरोना मरीज सामने आने के बाद जिला प्रशासन के आदेश पर राधास्वामी सेंटर को फिर शुरू कर दिया गया है। यहां अभी 60 बिस्तरों के साथ अन्य व्यवस्थाएं जुटाई गई है। मरीजों का इलाज भी किया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि अगले माह यहां बिस्तरों की संख्या तीन से चार गुना बढ़ा दी जाएगी, क्योंकि संक्रमण की दर आने वाले दिनों में बढ़ सकती है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.