हिसाब चुकता- तड़के अमेरिका का बड़ा हवाई हमला

आईएसआईएस -100 आतंकी ढेर, आत्मघाती हमले के दोनों साजिशकर्ता मारे गए

वॉशिंंगटन/काबुल। अमेरिका ने तालिबान हमले का 48 घंटे में बदला ले लिया। काबुल से 200 किमी दूर नागरहार प्रांत में ड्रोन हमले में 100 आतंकियों को मार गिराया। काबुल हवाई अड्डे के बाहर हुए धमाकों के दोनों मास्टर माइंड इस हमले में मार गिराए गए हैं। इसी के साथ आईएसआईएस के अड्डे को भी तबाह कर दिया गया है। वहीं दूसरी ओर काबुल विमानतल के बाहर हुए आत्मघाती हमले में मरने वालों की संख्या 170 के पार पहुंच गई है।
काबुल एयरपोर्ट के बाहर आत्मघाती हमलों के बाद अमेरिका ने जवाबी कार्रवाई करते हुए आईएस-के के ठिकानों पर हवाई हमला किया है। अमेरिका ने अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत में आतंकियों के ठिकानों पर ड्रोन से हमला किया है। इस हमले में एक साजिशकर्ता ढेर हो गया। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि इस हमले में काबुल एयरपोर्ट पर धमाकों का मास्टरमाइंड मारा जा चुका है। वहीं, अमेरिका ने अपने नागरिकों से कहा है कि वे काबुल एयरपोर्ट से तुरंत हट जाएं। बता दें कि 26 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट के बाहर आतंकी संगठन आईएस के ने दो फिदायीन हमले किए थे। धमाकों में 170 लोगों को मौत हो गई। इन हमलों में 13 अमेरिकी सैनिक और 2 ब्रिटिश नागरिक भी मारे गए हैं, वहीं 1276 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। घायलों का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज जारी है। घटना के बाद राष्ट्रपति बाइडन ने कहा कि था समय आने पर आतंकियों को अमेरिका करारा जवाब देगा। अमेरिका इसे माफ नहीं करेगा बल्कि उसे सजा देगा।
बाइडन का चीन पर निशाना
वॉशिंगटन। कोरोना उत्पत्ति को लेकर अमेरिका ने एक बार फिर चीन पर सवाल उठाए हैं। इस संबंध में जांच को लेकर चीन पर लगातार उठ रहे सवालों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने फिर महत्वपूर्ण बयान दिया है। बाइडन ने कहा कि आज की तारीख तक चीन लगातार कोरोना वायरस से जुड़ी सूचनाओं में पारदर्शिता को नकार रहा है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.