डायरियों पर अब चल पड़ा अवैध शराब का कारोबार

अगले सात दिनों में सौ करोड़ की शराब २६ जनवरी तक बिकेगी

इंदौर। इन दिनों आबकारी विभाग ने जहां शराब के एमआरपी से ज्यादा कीमत पर बेचे जाने को लेकर जहां दो दुकानों को सील किया है तो वहीं २६ जनवरी को ड्राय डे होने के साथ लगभग सौ करोड़ की शराब का कारोबार बिना बिल के डायरी पर किये जाने को लेकर ठेकेदारों ने तैयारी शुरु कर दी है। इंदौर जिले में हर दिन अलग अलग गांव में डायरियों पर लाखों रुपए की शराब का कारोबार अवैध रुप से आबकारी विभाग के संरक्षण में चल रहा है। दूसरी ओर सहायक आबकारी आयुक्त मनीष खरे और मुकेश नेमा के इंदौर में पदस्थ होने के बाद से अवैध शराब के कारोबार को संरक्षण मिल रहा है।

अधिक कीमत पर शराब बेचे जाने को लेकर जब दो दो शिकायतें लोकायुक्त में मय प्रमाण के दर्ज कारई तो कलेक्टर ने दो दुकानों के लायसेंस एक दिन के लिए निलंबित कर दिये थे। वही कल भी दो और दुकानों के लाइसेंस निलंबित कर दिये गये हैं। इसमे पालदा और माणिकबाग की दुकान एक दिन के लिए निलंबित किये गये थे। इस दुकान के ठेकेदार कई विवादों के लिए जाने जाते हैं और इस समय वे भाजपा के एक मंत्री के खास समर्थक है।

गृहमंत्री हिम्मत कोठारी के कार्यकाल में भी वे अपने उपर फर्जी तरीके से गोली चलवाकर अस्पताल में भर्ती हो गये थे परंतु जांच में पूरा मामला फर्जी पाया गया था। ४२ करोड़ के शराब घोटाले में शामिल उक्त ठेकेदार सहित शहर के कई ठेकेदार अब दुकानों के बजाए ग्रामीण क्षेत्रों सहित कई जगह डायरियों पर लाखों की शराब का कारोबार कर रहे हैं जिसका कोई रिकार्ड नहीं है। डायरियों पर बिक रही शराब कि सूचना आबकारी विभाग को भी है परंतु कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। आने वाले समय में २६ जनवरी को ड्राय डे और बसंत पंचमी के साथ शादियों का समय होने के कारण जिले में सौ करोड़ से अधिक की अवैध शराब का कारोबार होगा यह बात खुद शराब के एक ठेकेदार ने स्वीकार की है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.